चंद्रभागा नदी पर ग्रामीणों के सहयोग से बनाया गया पुलिया ध्वस्त, आवागमन बाधित

चंद्रभागा नदी पर ग्रामीणों के सहयोग से बनाया गया पुलिया ध्वस्त, आवागमन बाधित

बेगूसराय, 23 जून । लगातार बारिश के कारण नदियों के बड़े जलस्तर ने अब कहर बरपाना शुरू कर दिया है। बेगूसराय से गुजरने वाली गंगा एवं बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में तेजी से वृद्धि हो रही है। अतिक्रमित होने के कारण सूख चुकी चंद्रभागा नदी भी रौद्र रूप दिखाने लगा है। जिसका सबसे पहला कहर बखरी प्रखंड में हुआ है। यहां चंद्रभागा नदी के बढ़ते जलस्तर के कारण ग्रामीणों के सहयोग से बनाया गया डायवर्सन पुलिया ध्वस्त हो जाने से 50 हजार से अधिक की आबादी का स्थानीय बाजार से संपर्क भंग हो गया है। बभइन, खजुरिया, ब्रह्मदेवनगर, रानी शकरपुरा, बल्हिमचक सहित अन्य गांवों से सुगमतापूर्वक बखरी बाजार जाने का एक मात्र रास्ता चन्द्रभागा नदी में पिछले दिनों ग्रामीणों ने आपसी सहयोग से मिट्टी भरकर रास्ता एवं छोटा पुल बनाया था लेकिन, चन्द्रभागा नदी के जलस्तर में उफान आने की वजह से मंगलवार की देर रात पुल नदी में बह गया और पानी का बहाव काफी तेज है। पुल के पानी में बह जाने की खबर सुनकर सुबह में चन्द्रभागा नदी के दोनों पार अवस्थित गांव के लोग जमा हो गए लेकिन पानी के तेज बहाव के कारण अब कोई विकल्प नहीं है।

स्थानीय ग्रामीण खजुरिया निवासी राजेश कुमार, ब्रह्मदेव नगर के विनय कुमार महतों, जवाहर महतों, निशहरा के चन्द्रदेव यादव आदि ने बताया कि यहां चन्द्रभागा नदी में पुल का निर्माण होना बहुत जरूरी है। अब लोगों को बखरी जाने के लिये 12 किलोमीटर से भी अधिक का चक्कर लगाना पड़ेगा। उसमें भी बभइन से बगरस जानेवाली सड़क जर्जर हालत में रहने के कारण पैदल चलना भी मुश्किल है।

समाजिक कार्यकर्ता जितेन्द्र जीतू ने प्रशासन से मांग किया है कि जनहित में अविलंब पुल निर्माण की प्रक्रिया एवं बभइन से बगरस तक सड़क के पुनर्निर्माण की प्रक्रिया शुरू नहीं किया गया तो बहुत मुश्किल हो जाएगा।