ग्रामीण इलाकों तक पहुंच लिए डाक विभाग ने बिहार में शुरू किया फाइव स्टार विलेज स्कीम

ग्रामीण इलाकों तक पहुंच लिए डाक विभाग ने बिहार में शुरू किया फाइव स्टार विलेज स्कीम

बेगूसराय, 09 फरवरी।भारतीय डाक विभाग अनेक तरह की सेवाएं देकर लगातार सुदूरवर्ती क्षेत्र तक के लोगों को किसी न किसी रूप में विभाग से जोड़ने के प्रयास में लगी हुई है। लेकिन जानकारी के अभाव में अधिकतर सेवाएं सुदूर ग्रामीण इलाके में नहीं पहुंच पाती है। जानकारी के अभाव में लो डाक विभाग द्वारा दी जाने वाली सरकारी सेवाओं के लिए भी निजी एजेंसी के भरोसे रहते हैं।

इसके लिए डाक विभाग ने फाइव स्टार विलेज स्कीम के नाम से एक नए अभियान की शुरूआत किया है। जिसमें ग्रामीण डाक सेवक अपने सेवा और उत्पाद को चयनित गांव के एक-एक सौ घरों तक पहुंचाएंगे।योजना के पूर्णता के आधार पर गांव को फाइव स्टार से लेकर थ्री स्टार तक का ग्रेड दिया जाएगा। इसके साथ ही ग्रामीण डाक सेवक भी प्रोत्साहित किए जाएंगे। यह योजना बिहार के सभी डाक पर प्रमंडलों में एक साथ शुरू किया गया है।

बेगूसराय प्रमंडलीय डाक अधीक्षक अरविन्द कुमार सिंह ने मंगलवार को बताया कि डाक विभाग द्वारा दी जा रही सेवाओं की जानकारी के अभाव में समान सेवाओं के लिए लोग दूसरे संस्थानों से संपर्क करते हैं। इसके लिए भारतीय डाक विभाग ने अपनी सेवाओं को सुदूर ग्रामीण इलाकों तक पहुंचाने के लिए एक पहल की है, जिसका नाम हाईवे स्टार विलेज स्कीम दिया गया है।

इस योजना की अवधारणा भारतीय डाक विभाग की योजनाओं को पांच गांव के एक-एक सौ घरों तक पहुंचाना है। जिसमें एसबी, आरडी, टीडी खाता या एनसीएस, केवीपी सर्टिफिकेट। सुकन्या समृद्धि खाता, पीपीएफ खाता, वित्त पोषित इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक खाता, डाक जीवन बीमा, ग्रामीण डाक जीवन बीमा, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना तथा प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना को शामिल किया गया है।

यदि कोई गांव उपरोक्त पांच में से चार योजनाओं को पूर्ण करते हैं तो उन्हें फोर स्टार, यदि चीर योजनाओं को पूर्ण करते हैं तो उस गांव को थ्री स्टार दिया जाएगा। निर्धारित लक्ष्य पांच ग्रामीण डाक सेवकों की एक टीम बनाकर प्राप्त किया जाएगा। जिन्हें डाक विभाग के सभी उत्पादों, बचत, बीमा योजनाओं के विपणन के लिए एक गांव सौंपा जाएगा। टीम सभी योजनाओं की जागरूकता के लिए अभियान चलाएगी और योग्य गांवों को कवर करने के लिए घर-घर जाएगी।