सेवानिवृत्त जवानों ने शुरू किया बाढ़ राहत चिकित्सा शिविर

सेवानिवृत्त जवानों ने शुरू किया बाढ़ राहत चिकित्सा शिविर

बेगूसराय, 27 अगस्त । गंगा नदी के जलस्तर में कमी आने के बाद बेगूसराय जिले में बाढ़ की स्थिति धीरे-धीरे सामान्य हो रही है। हालांकि अभी भी प्रभावित हुए आठ प्रखंडों के लोग परेशान हैं और उन्हें मदद की जरूरत है। इसे ध्यान में रखते हुए सेना से सेवानिवृत्त जवानों के संगठन वेटरन इंडिया ने विश्व माया चैरिटेबल ट्रस्ट एवं माया क्लिनिक आदि के साथ मिलकर बाढ़ राहत चिकित्सा शिविर की शुरुआत मटिहानी के रामदिरी से किया है। दूसरी ओर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और टीम कन्हैया के सदस्य पहले से ही इस काम में लगे हैं। इस बीच, प्रशासन के राहत शिविर में अब कोई नहीं रह रहा है, लेकिन बाढ़ जनित बीमारियों से बचाव के लिए जिले भर में 63 जगहों पर सरकारी स्वास्थ्य केंद्र एक्टिव मोड में हैं।

सेवानिवृत्त जवानों के संगठन वेटरन इंडिया बिहार हेल्थ टीम प्रमुख-सह-वीएमसीटी चेयरमैन डॉ. रमण कुमार झा के नेतृत्व में शुरू किए गए बाढ़ राहत चिकित्सा शिविर की शुरुआत विधायक राजकुमार सिंह ने किया। डॉ. झा ने बताया कि 733 जिलों में फैले सेना के सेवानिवृत्त सिपाहियों के समूह वेटरन इंडिया द्वारा विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं को साथ लेकर बाढ़ राहत चिकित्सा शिविर लगाया जा रहा है। इसके तहत विभिन्न बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में डॉक्टरों की टीम लोगों का इलाज और जांच करने के बाद दवाई उपलब्ध करवा रही है। बाढ़ के प्रकोप को देखते हुए और बाढ़ की चपेट में आये लोगों को जान माल का नुकसान को कम करने के उद्देश्य से स्थिति सामान्य होने तक यह सिलसिला चलता रहेगा।

अन्य संस्थाओं ने भी अलग-अलग क्षेत्रों में स्वास्थ्य शिविर लगाकर बाढ़ पीड़ितों का इलाज, जांच और दवा वितरण जारी रखा है। डीएम अरविंद कुमार वर्मा ने बताया कि वर्तमान में आठ प्रखंडों के 21 पंचायत पूरी तरह और 20 पंचायत आंशिक रूप से बाढ़ प्रभावित हैं। इनमें 157 गांवों के तीन लाख, 47 हजार, दो सौ लोग बाढ़ से प्रभावित हुए तथा राहत केंद्र में अब बाढ़ प्रभावित नहीं रह रहे हैं। दो सरकारी एवं 20 निजी नाव का परिचालन किया जा रहा है। संचालित सामुदायिक रसोई की संख्या भी घटकर चार रह गई है सामुदायिक रसोई में 14 लाख 75 हजार 29 लोगों को भोजन कराया गया है।