खाकी को सलाम: यह है इस सप्ताह के 'हीरो ऑफ द वीक'

खाकी को सलाम: यह है इस सप्ताह के 'हीरो ऑफ द वीक'

नई दिल्ली, 17 जुलाई । दिल्ली पुलिस कर्मियों को अगर उनके काम के लिए प्रोत्साहित किया जाए तो वो एक कदम आगे बढ़कर अपने काम को और ज्यादा मुस्तैदी से करेंगे। उनको देखकर उनके साथी भी प्रोत्साहित होंगे और वो भी अपने जिले के हीरो ऑफ द वीक के सम्मान से सम्मानित होना चाहेंगे। दिल्ली पुलिस आयुक्त का कार्यभार देख रहे बालाजी श्रीवास्तव के निर्देशों पर जुलाई महीने से पुलिसकर्मियों को उनके काम को लेकर अवार्ड देने की मुहिम शुरू की गई है। जिसके बाद से अचानक बदमाशों को पकड़ने में तेजी देखी जा रही है।

जहांगीरपुरी थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर फूल सिंह

जुलाई महीने में उत्तर पश्चिम जिला में जहां जहांगीरपुरी थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर फूल सिंह जो कि कई थानों में रहे चुके और बदमाशों को पकड़ने के लिए चलाए गए ऑपरेशनों में अहम भूमिका अदा कर रहे है। जहांगीरपुरी थाने में रहते हुए उन्होंने अभी तक 10 लापता बच्चों को उनके परिवार वालों से मिलवाकर उनकी खुशियां वापिस लौटाई है, जिनको लेकर परिवार शायद उम्मीदें छोड़ चुका था। सब इंस्पेक्टर फूल सिंह ने पांच कुख्यात भगौड़े घोषित बदमाशों को अपने ह्यूमैन सोर्से की सहायता से गिरफ्तार किया और कई अनसुलझे मामलों का खुलासा भी किया। इतना ही नही उन्होंने इसी थाने में रहते हुए दर्जनभर घोषित बदमशों को गिरफ्तार करके आठ बड़ी वारदातों का खुलासा किया।

भारत नगर थाने में तैनात हेड कांस्टेबल नरेंद्र सिंह

हेड कांस्टेबल नरेंद्र सिंह भारत नगर थाने के अंतर्गत आने वाली संगम पार्क पुलिस चौकी में तैनात है। दोपहर के समय जब वह गश्त पर थे। उन्होंने एक संदिग्ध को देखकर उसका पीछा कर पकड़ा था। जिसके पास से दो बेग से छह लैपटॉप और 60 फोन जब्त किए। आरोपित साथियों के साथ रात को रेलवे स्टेशन व बस अड्डों आदि पर सोने वाले लोगों के फोन व लेपटॉप चोरी कर लिया करता था। गैंग दिल्ली ही नही बल्कि एनसीआर में भी वारदातें करता था। उनकी बहादुरी और समझदारी के चलते उनको हीरो ऑफ द वीक के सम्मान से नवाजा गया।

परिवारों को उनकी खुशियां लौटाई

एएचटीयू शाखा में तैनात सब इंस्पेक्टर जसविंदर सिंह एएसआई अरुण हेड कांस्टेबल संजीव और महिला कांस्टेबल शिवानी ने जिला जमुई और नवादा बिहार के दो लापता बच्चों को काफी मशक्कत के बाद तलाशा और परिवार से मिलवाकर उनको उनकी खुशियां लौटाई। जिनको लेकर परिवार उम्मीद खो ही चुका था।

लोग अपनों को खून नही देते, इन्होंने दुसरो की जान बचाई

कोरोना काल मे लोग अपनो को कंधा देने से बचते नजर आये,कोविड से संक्रमित अपने सदस्यों के पास जाने से बचे। उनको अकेला रहने को मजबूर कर दिया, लेकिन दिल्ली पुलिस में कुछ ऐसे कर्मी थे,जिन्होंने इसे संक्रमित मरीजों की अपने परिवार की तरह सेवा की। आदर्श नगर थाने की महिला कांस्टेबल कविता मॉडल टाउन थाने के सब इंस्पेक्टर सतवंत जहांगीरपुरी थाने में तैनात कांस्टेबल कुलदीप ऐसे पुलिस कर्मी थे, जिन्होंने एक बार नही कई कई बार कैंसर ग्रस्त व कोरोना संक्रमितों को अपना खून व प्लाज्मा देकर उनकी जाने बचाई।

बाहरी जिला पुलिस: हीरो ऑफ द वीक

निहाल विहार थाने में तैनात कांस्टेबल जोगेंद्र,देवेंद्र और संदीप ये तीन ऐसे पुलिसकर्मी हैं,जहां भी रहे बदमाशों की आंखों में खटकते ही रहे हैं। तीनो पुलिसकर्मी चाहे अध्यापक नगर बीट नम्बर-5 हो या फिर लक्ष्मी पार्क बीट नंबर -3 या फिर कुंवर सिंह नगर बीट नम्बर-2, इन्होंने बदमाशों में अपना खौफ बनाकर रखा और कई बड़े मामलों का खुलासा भी किया। जिसमे 17 जून को फोन लूटने की वारदात में सीसीटीवी कैमरों को खंगालकर व ह्यूमैन सोर्से के जरिये तीन बदमाशों को पकड़ा था। अपनी ड्यूटी को निष्पक्ष तरीके से निभाने और गजब की जांच कर बदमाशों को पकड़ने के लिये ही इन्हें हीरो ऑफ द वीक से सम्मानित किया गया।

मंगोलपुरी की महिला कांस्टेबल नीरज गजब की फुर्ती

दिल्ली पुलिस में महिला पुलिसकर्मी जिस तरह से अपने अपने विभाग में काम करके बदमाशों के दांत खट्टे कर रही हैं। वो काबिले तारीफ है। बाहरी जिले के मंगोलपुरी थाने में तैनात महिला कांस्टेबल नीरज उनमें से एक हैं। कई मामले ऐसे हुए,जिसमे कांस्टेबल नीरज ने अपने ह्यूमैन सोर्स और सीसीटीवी को बार बार खंगालने के बाद बदमाशों को सलाखों के पीछे भेजा है।

उन्होंने एक टीम के साथ काम करते हुए जिले के टॉप टेन बदमाशों में से राजेश उर्फ दिलदिल और संदीप कालिया को गिरफ्तार किया। जिनपर 50 से ज्यादा मामले दर्ज थे। उन्होंने अमित उर्फ काजा को ड्रग्स के साथ पकड़ा। दो नाबालिगों को झपटमारी में जबकि बच्चन और रवि उर्फ मोटा को अलग अलग ऑपरेशन के तहत गिरफ्तार किया। कांस्टेबल नीरज ने पिछले ढाई महीने में लापता आठ बच्चों को भी उनके परिवार से मिलवाया।

हेड कांस्टेबल जविन्दर सिंह गोली लगने के बाद भी नही छोड़ा था बादमाश को

हेड कांस्टेबल जसविंदर सिंह रोहिणी जिले के अमन विहार थाने में तैनात हैं। पिछले ही हफ्ते अमन विहार पुलिस ने घोषित बदमाश आरोपित सुमित उर्फ बग्गा को गिरफ्तार किया था। जिसे बरामद के लिये एएसआई बेगराज, हेड कॉन्स्टेबल जसविंदर, कॉन्स्टेबल प्रमोद, राकेश, मोहित बुधवार तड़के पौने चार बजे राजीव नगर एक्सटेंशन लेकर जा रहे थे ।

पुलिस टीम जब आरोपित को लेकर सेक्टर-37 रोहिणी हैलीपैड के पास पहुंची। आरोपित सुमित ने शौच करने का बहाना बनाकर एक पुलिसकर्मी की रिवाल्वर छीन ली। अचानक आरोपित ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। गोली हवलदार जसविंदर के पैर में गोली लगी।आत्मरक्षा में पुलिस ने भी फायर किया। गोली सुमित के पैर में लगी। घायल होने के बावजूद जसविंदर ने आरोपित को दबोचे रखा।