लापता मजदूर का नर कंकाल मिलने पर इंस्पेक्टर लाइन हाजिर

हमीरपुर, 12 मई । एक थाना क्षेत्र में हाल में ही महीनों से लापता एक मजदूर का नर कंकाल मिट्टी के टीले से खुदाई के दौरान मिलने के मामले में एसपी ने एक इंस्पेक्टर को लाइन हाजिर कर दिया है। छह इंस्पेक्टरों को इधर से उधर करने के साथ ही दो सीओ के भी स्थानांतरण किए हैं। एक थानाध्यक्ष अभी हाल में ही दरोगा से इंस्पेक्टर बना है, जिसे सदर कोतवाली में प्रभारी निरीक्षक के पद पर तैनाती मिली है।

जिले में आपराधिक वारदातों पर ब्रेक लगाने के लिए एसपी लगातार एक्शन मोड में है फिर भी आपराधिक घटनाओं पर कोई अंकुश नहीं लग रहा है। पिछले कुछ हफ्तों से जिले में हत्या और मासूमों से दरिंदगी और लूट की वारदातों ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठे है।

एसपी कमलेश दीक्षित ने बुधवार की बीती रात मुस्करा थाने के इंस्पेक्टर (प्रभारी निरीक्षक) संजय सिंह को लाइन हाजिर कर दिया, जबकि हमीरपुर सदर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक भरत कुमार को प्रभारी निरीक्षक सुमेरपुर, प्रभारी निरीक्षक सिसोलर विनोद कुमार को प्रभारी निरीक्षक मुस्करा व इंस्पेक्टर सुमेरपुर दुर्ग विजय सिंह को प्रभारी निरीक्षक सदर कोतवाली स्थानांतरित कर दिया है। इसके अलावा इंस्पेक्टर सुरेश सैनी को सदर कोतवाली से प्रभारी निरीक्षक सिसोलर अपराध शाखा, इंस्पेक्टर चन्द्रशेखर गौतम को पुलिस लाइन्स से अतिरिक्त प्रभारी निरीक्षक अपराध शाखा ललपुरा व इंस्पेक्टर आशुतोष सिंह को पुलिस लाइन्स से अपराध शाखा के लिए स्थानांतरित किया गया है।

इसके साथ ही हमीरपुर सदर के सीओ विवेक यादव को मौदहा तथा मौदहा सर्किल के सीओ रवि प्रकाश सिंह की हमीरपुर सदर में तैनाती की गई है। बताते दे कि पिछले साल ही सीओ विवेक यादव को सरीला से स्थानांतरित कर हमीरपुर सर्किल का चार्ज दिया गया था। बताया जाता है कि मुस्करा थाना क्षेत्र के उपहरका गांव निवासी मजदूर मूलचन्द्र निषाद (48) पिछले साल नवम्बर से यह लापता हो गया था। इसके पुत्र हरगोविन्द ने 10 नवम्बर को मुस्करा थाने में पिता के अपहरण की सूचना दर्ज कराई थी, जिसमें गांव के ही ठेकेदार पर आरोप लगाए गए थे। लेकिन पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की थी। दो दिन पूर्व पुलिस ने थाना क्षेत्र के शिवनी के नत्थू पाल डेरा में एक खेत के टीले में शव के दबे होने की सूचना पर जेसीबी मशीन से खुदाई कराई तो एक नर कंकाल देख पुलिस के होश उड़ गए। मृतक की पत्नी सुमन व पुत्र ने शव की पहचान की है।

मृतक की पत्नी ने आरोप लगाया था कि मजदूरी करने के लिए पति ने रामबाबू ठेकेदार से 75 हजार रुपये एडवांस में लिए थे। इसी पैसे के चक्कर में हत्या कर शव मिट्टी के टीले में दफन किया गया। पुलिस ने कई बार आरोपी ठेकेदार को थाने में बुलवाया था, लेकिन उसे पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया था। एसपी ने के निर्देश पर इस मामले में आरोपी ठेकेदार को गिरफ्तार कर लिया गया है। बताया जाता है कि इसी मामले में उदासीनता बरतने पर एसपी ने मुस्करा थाने के प्रभारी निरीक्षक संजय सिंह को लाइन हाजिर कर दिया है।