वार्डों में मतदाता सूची में बड़े पैमाने पर नहीं हुआ संशोधन : अनन्या बनर्जी

कोलकाता, 6 दिसंबर । कोलकाता नगर निगम के चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने वार्ड 109 से अनन्या बनर्जी को अपना उम्मीदवार बनाया है। 2015 के चुनाव में उनकी जीत का अंतर 2934 वोटों का था। इस चुनाव में जीत के अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ने की कोशिश में हैं।

कलकत्ता विश्वविद्यालय से अंग्रेजी स्नातक अनन्या ने अपने करियर की शुरुआत एक एयर होस्टेस के रूप में की थी। फिर मिस कलकत्ता का खिताब जीता। वह कई वर्षों तक पश्चिम बंगाल महिला विकास उपक्रम की अध्यक्ष और राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की सदस्य रही हैं। वर्ष 2015 में पार्टी ने उन्हें माकपा के लाल दूर्ग को तोड़ने के लिए 109 वार्ड से मैदान में उतारा। उन्होंने माकपा के समरेंद्रनाथ रॉय को हराया था।

अनन्या ने पिछले पांच वर्ष में सीवेज से शुद्ध पेयजल की आपूर्ति के लिए विभिन्न कार्य किए हैं। उन्हें उम्मीद है कि जनता उन्हें फिर जिताएगी। हिन्दुस्थान समाचार को उन्होंने बताया कि पिछले दो दशकों में ईएम बाईपास के आसपास इलाके में आबादी बढ़ी है। लेकिन वार्ड पुनर्व्यवस्था 2001 की जनगणना पर आधारित है। इसलिए वार्ड को पुनर्व्यवस्थित करने की जरूरत है। यहां तमाम नए लोगों ने अपने आशियानें बनाए हैं लेकिन मतदाताओं की संख्या उस दर से नहीं बढ़ी है, जिस दर से जनसंख्या में वृद्धि हुई है। मतदाता सूची में बड़े पैमाने पर संशोधन नहीं हुआ है।

अनन्या ने बताया कि चूंकि नगर निगम प्रत्येक वार्ड में समान राशि आवंटित करता है, आकार या जनसंख्या के अनुपात में नहीं। इसलिए बड़े वार्डों के समग्र विकास में परेशानियां होती हैं। वार्ड पुनर्व्यवस्था के मौजूदा फॉर्मूले को बदलने से समस्या का समाधान नहीं होगा। बेहतर नागरिक सेवाएं प्रदान करने के लिए बड़े वार्डों में प्रति व्यक्ति के हिसाब से राशि आवंटन करने की जरूरत है। इसमें प्रशासनिक और वित्तीय सुधार की जरूरत है।