भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा ने लोकसभा में उठाया बीएमएचआरसी में विशेषज्ञों की कमी का मुद्दा

भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा ने लोकसभा में उठाया बीएमएचआरसी में विशेषज्ञों की कमी का मुद्दा

भोपाल, 09 फरवरी । भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने लोकसभा में भोपाल गैस पीडि़तों के लिए संचालित भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर (बीएमएचआरसी) में विशेषज्ञों की कमी का मुद्दा उठाया है। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री से अस्पताल में रिक्त पदों पर विशेषज्ञों की जल्द भर्ती करने का अनुरोध किया, ताकि पीडि़तों को उचित चिकित्सा मिल सके।

साध्वी प्रज्ञा ने अपने वक्तव्य में कहा कि भोपाल में दिसम्बर 1984 में यूनियन कार्बाइड गैस कांड हुआ था। जिसमें हजारों लोगों की मौत हुई थी और लाखों लोग इस त्रासदी से प्रभावित हुए थे। गैस कांड से कई पीढ़ी प्रभावित हुई और आज भी कई लोग उसका दंश झेल रहे हैं। उन्होंने कहा कि गैस पीडि़तों के उपचार के लिए केन्द्र द्वारा संचालित बीएमएचआरसी सुपर स्पेशियलिटी वाला 350 बिस्तरों का अस्पताल खोला गया था। शुरूआत में यहां चिकित्सा व्यवथा ठीक ठाक रही लेकिन पिछले कई वर्षों से यहां विभिन्न विभागों में विशेषज्ञ डॉक्टरों की अत्यधिक कमी के कारण कई विभाग बंद पड़े हैं, जिनमें गैस्ट्रोमेडिसिन, गुर्दा रोग विभाग, न्यूरोलॉजी और मनोचिकित्सा विभाग में आज भी पद रिक्त है। विशेषज्ञों की कमी के चलते मरीजों को उचित इलाज नहीं मिल पा रहा है और उनकी जान के साथ खिलवाड़ हो रहा है।

सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने लोकसभा में अध्यक्ष के माध्यम से स्वास्थ्य मंत्री से आग्रह करते हुए कहा कि बीएमएचआरसी में खाली विभागों में विशेषज्ञों की पूर्ति की जाय जिससे गैस पीडि़तों को उचित उपचार मिल सके। गौरतलब है कि केंद्र सरकार का भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर (बीएमएचआरसी) गैस पीडि़तों के लिए बनाया गया भोपाल का सबसे बड़ा अस्पताल है। लेकिन यहां पर इलाज के लिए मरीजों को रोजाना परेशान होना पड़ता है। विशेषज्ञ डॉक्टरों के अभाव के चलते पीडि़तों को इलाज के लिए प्राइवेट अस्पताल में जाना पड़ता है।