मप्रः प्रीतम दास महाराज का जीवन उजाला फैलाने वाले दीपक की तरहः राज्यपाल पटेल

मप्रः प्रीतम दास महाराज का जीवन उजाला फैलाने वाले दीपक की तरहः राज्यपाल पटेल

इंदौर, 17 जनवरी (हि.स.)। स्वामी प्रीतम दास जी महाराज का जीवन और उनकी शिक्षा एक दीपक की तरह है, जो चारों ओर उजाला फैलाती हैं। हमें उनकी शिक्षाओं से जीवन के प्रति एक बोध विकसित करना चाहिए और परमार्थ और परोपकार की भावना के साथ जीवन जीना चाहिए।

यह बात प्रदेश के राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने सोमवार को इंदौर में प्रीतम दास महाराज के जन्मोत्सव पर कही। शहर की सिंधी कॉलोनी स्थित गोविन्द धाम मंदिर परिसर में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल शामिल हुए। वे स्वामी प्रीतम दास महाराज के जन्म दिवस के अवसर पर विशेष तौर पर भोपाल से इंदौर पहुंचे थे। उन्होंने यहां मंदिर पहुंचकर मत्था टेका और पूजा अर्चना की। स्वामी दयाल दास महाराज ने यहां की परंपरानुसार कंबल ओढ़ाकर राज्यपाल का स्वागत किया। इस अवसर पर सांसद शंकर लालवानी, विधायक मालिनी गौड़, रमेश भाई हीरानी, प्रेम कुमार लालवानी, हितेश उदासी सहित सिंधी समाज के अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा कि सिन्धी समाज से उनका जुड़ाव बचपन से ही रहा है। संत प्रीतम दास महाराज का नवसारी (राज्यपाल का पैतृक नगर) से भी संबंध रहा है। उनके अनेक अनुयायी वहां पर रहते हैं। उन्होंने कहा कि संतों की शिक्षाओं, कथा और प्रवचन का बहुत लाभ होता है। हमें कथाओं और प्रवचन में सुनी और समझी गई उनकी शिक्षाएं घर आकर बच्चों को भी बतानी चाहिए और उन्हें संस्कारित करना चाहिए।

कार्यक्रम में सांसद शंकर लालवानी ने कहा कि स्वामी प्रीतम दास का व्यक्तित्व चमत्कारी था। उन्होंने सदैव व्यावहारिक नजरिया रखा। उन्होंने बताया कि भंवरकुआ की ओर जाने वाली सड़क पहले बहुत सकरी थी। जब इसके विस्तारीकरण की बात चली तो इसमें मंदिर का कुछ हिस्सा भी टूटना था। स्वामी प्रीतम दास के पास में जब वे आए तो उन्होंने मंदिर का अगला हिस्सा तोड़ने की सहर्ष स्वीकृति प्रदान की और एक मिसाल क़ायम की। कार्यक्रम में नवसारी से आए प्रेम कुमार और रमेश हीरानी ने राज्यपाल मंगुभाई पटेल के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला।