हिमाचल में बारिश का कहर, हादसों में नौ की मौत

हिमाचल में बारिश का कहर, हादसों में नौ की मौत

-20 घर क्षतिग्रस्त, 22 सड़कें अवरुद्ध, चोटियों पर ताजा हिमपात

-शिमला सहित पहाड़ी इलाकों में गिरा पारा

शिमला, 22 सितम्बर । हिमाचल प्रदेश में मानसूनी बारिश का कहर जारी है। राज्य के कई इलाकों में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त है। मंगलवार-बुधवार को अलग-अलग हादसों में नौ लोगों की जान जा चुकी है। बारिश से कई घरों को नुकसान पहुंचा है, भूस्खलन से अधिकांश सड़कों पर वाहनों की आवाजाही ठप्प हो गई है।

भूस्खलन के कारण मंगलवार को भूस्खलन से शिमला-कालका नेशनल हाईवे सोलन जिला के क्यारीबंगला के पास कुछ घंटे अवरुद्ध रहा। इसी तरह शिमला के प्रवेश द्वार शोघी कस्बे से आनंदपुर होकर ब्योलिया जाने वाली सड़क भी भूस्खलन से बाधित हो गई।

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की देैनिक रिपोर्ट के मुताबिक भूस्खलन से 22 सड़कों पर वाहनों की आवाजाही ठप्प हो गई हेै। सिरमोैर में 11, मंडी में पांच, कुल्लू में तीन, शिमला में दो ओैर बिलासपुर में एक सड़क बंद हैं। अलग-अलग हादसों में कुल नौ लोग मारे गए हैं। ये मोैतें बिलासपुर, चंबा, हमीरपुर, कांगड़ा, किन्नोैर, कुल्लू ओैर सोलन जिलों में हुई हेैं। मोैत की वजह सड़क दुर्घटना, पहाड़ी से गिरना, फिसलना, बहना ओैर सर्पदंश रहीं।

बारिश से सिरमोैर में 27 ओैर कुल्लू में 14 ट्रांसफार्मरों के ठप्प पड़ने से लोगों को बिजली किल्लत का भी सामना करना पड़ रहा हैे। बिलासपुर, चंबा, हमीरपुर ओैर सिरमौर में एक-एक कच्चा मकान पूर्ण रूप से ध्वस्त हो गया। इसके अलावा कुल्लू में 11, मंडी में दो ओैर ऊना व सिरमोैर में एक-एक कच्चे मकान को आंशिक नुकसान पहुंचा हेै। बिलासपुर में चार ओैर हमीरपुर, सिरमोैर में तीन-तीन पशुशालाएं भी धराशायी हो गईं। बिलासपुर में तीन पशु-पक्षी भी हादसों में मारे गए हैं।

राज्य के मेैदानी और मध्यवर्ती इलाकों में जहां बादलों के बरसने से गर्मी से निजात मिल रही है वहीं राज्य की ऊंची चोटियों पर ताजा हिमपात से पहाड़ी इलाकों में मोैसम ठंडा हो गया हैे। राजधानी शिमला के तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई हैे। यहां मंगलवार को दिन भर बारिश का सिलसिला चला। ठंड से बचने के लिए लोगों को गर्म कपड़ों का सहारा लेना पड़ रहा हेै। मोैसम विभाग के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दोैरान राज्य में अधिकतम तापमान में चार से पांच डिग्री की गिरावट दर्ज की गई है।

बीते 24 घंटों के दोैरान पांवटा साहिब में सर्वाधिक 68 मिमी बारिश दर्ज की गई। नाहन में 67, कसोैली में 50, नेैना देवी में 45, पच्छाद में 20, नारकंडा में 17, करसोग में 16, गोहर व सुंदरनगर में 11-11, रेणुका, कुमारसेेन ओैर बिलासपुर में 10-10, बरठीं व कंडाघाट में नोै-नोै, काहू और रामपुर में आठ-आठ मिमी बारिश दर्ज की गई हैे। शिमला में अधिकतम तापमान 20.2, सुंदरनगर में 26, भुंतर में 25.1, कल्पा में 17.6, धर्मशाला में 25.8, नाहन में 24.8, केलांग में 17.1, पालमपुर में 24.4, सोलन में 26.5, मनाली में 19, कांगड़ा में 28.1, मंडी में 25.2, बिलासपुर में 25.1, हमीरपुर में 24.6, चंबा में 28.3, डल्होैजी में 17.9, कुफरी में 18.3 ओैर जुब्बड़हट्टी में 23.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

मौसम विभाग के अनुसार 25 सितम्बर से बारिश में कमी आएगी ओैर मानसून मंद पड़ जाएगा। मोैसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक सुरेंद्र पाल ने बताया कि राज्य के अधिकतर भागों में 24 सितम्बर तक बादलों के बरसने का अनुमान हेै। उन्होंने अगले 24 घंटों के दोैरान शिमला, सोलन ओैर सिरमौर जिलों में एक-दो स्थानों पर भारी बारिश की चेतावनी दी हैै। इन इलाकों में येलो अलर्ट जारी किया गया है। मैदानी क्षेत्रों में 25 सितम्बर ओैर उच्च पर्वतीय इलााकें में 24 सितम्बर से मोैसम साफ रहेगा। मध्य पर्वतीय इलाकों में आगामी 26 सितम्बर तक बारिश की संभावना बनी हुई हेै।