नहीं रहे अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कवि कृष्ण मित्र, साहित्य जगत में छाया शोक

नहीं रहे अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कवि कृष्ण मित्र, साहित्य जगत में छाया शोक

गाजियाबाद, 24 नवम्बर। अपनी ओजपूर्ण कविताओं से गाजियाबाद का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित करने वाले विश्व विख्यात कवि कृष्ण मित्र का गुरुवार को निधन हो गया। महानगर के एक अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली। पारिवारिक सूत्रों का कहना है कि उनका अंतिम संस्कार गुरुवार को तीन बजे हिंडन घाट पर किया जाएगा।

उनके निधन पर महानगर में शोक छा गया। उनके निधन पर तमाम बुद्धिजीवियों, साहित्यिकारों एवं पत्रकारों ने शोक जताया है। कथाकार यात्री ने कहा कि मित्र के निधन के साथ ही उनकी मित्रता के सात दशक पुराने रिश्ते का टूटना बेहद दुखदाई है।

ओज की कविता के लिए प्रसिद्ध कवि कृष्ण मित्र का नाम दुनियाभर के हिदी भाषी कवियों में प्रमुखता से लिया जाता है। लाल किले पर काव्यपाठ कर चुके कृष्ण मित्र ने दुनिया के कई देशों के कवि सम्मेलनों में शहर का नाम रोशन किया है। उन्होंने गाजियाबाद को साहित्यिक क्षेत्र में पहचान दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

श्री यात्री ने कहा कि अध्यापक के तौर पर गाजियाबाद में नौकरी शुरू करने के शुरूआती दौर में गाजियाबाद के जिन साहित्यकारों से संपर्क हुआ उनमें कृष्ण मित्र सर्वोपरि थे। अपने लंबे संपर्क को याद करते हुए श्री यात्री ने कहा कि कृष्ण मित्र भारत-पाक विभाजन के बाद 1946 में गाजियाबाद आए थे। वह इस शहर के तमाम उतार-चढ़ाव और उपलब्धियों के साक्षी रहे।

श्री यात्री के अनुसार 60 के उस दौर में कस्बे नुमा इस शहर में गिनती के ही साहित्यकार हुआ करते थे। कोई साहित्यिक केंद्र नाश होने की वजह से कंपनी बाग या टाउन हॉल में ही साहित्यिक आयोजन होते थे। उस समय रामेश्वर उपाध्याय, अमरनाथ सरस, गोपाल कृष्ण कौल, हरप्रसाद शास्त्री जैसे साहित्यकारों ही शहर की साहित्यिक गरिमा बढ़ाते थे। श्री यात्री ने कहा कि मुझे यात्री उपनाम जहां उपेंद्रनाथ अश्क ने दिय वहीं कृष्ण लाल जी को मित्र उपनाम अटल बिहारी वाजपेई जी ने दिया था। श्री यात्री का कहना है कि मित्र जी की राष्ट्रीय चेतना अदभुत थी। बाबरी मस्जिद प्रकरण, विमान अपहरण, पोखरण परीक्षण और कारगिल युद्ध जैसे मौके पर चली उनकी लेखनी साहित्य ही नहीं राष्ट्रीय धरोहर के रूप में अपनी एक अलग पहचान रखती है।

कवि गोविंद गुलशन, रमा सिंह, आलोक यात्री, चेतन आनंद, सुभाष चंदर, दीक्षित दनकौरी, अनिमेष शर्मा, दीपाली जैन, रिंकल शर्मा, मनु लक्ष्मी मिश्रा,मतीन मेरठी सुरेंद्र सिंघल, योगेन्द्र दत्त शर्मा, विपिन जैन, सरवर हसन सरवर, जकी तारिक, सुशील शर्मा आदि ने भी उनके निधन पर शोक संवेदना जताई है।