कीर्तिमान- स्वतंत्रता दिवस पर आईटीबीपी जावानों ने 75 चोटियों पर किया एक साथ आरोहण

कीर्तिमान- स्वतंत्रता दिवस पर आईटीबीपी जावानों ने 75 चोटियों पर किया एक साथ आरोहण

नई दिल्ली, 15 अगस्त । भारत की आजादी के 75 वर्ष पूरा होने पर भारत सरकार के कार्यक्रम आजादी का अमृत महोत्सeव की श्रंखला में देशभर में आयोजित किए जा रहे कार्यक्रमों कड़ी में भारत-तिब्ब त सीमा पुलिस (आईटीबीपी) द्वारा आज अमृतारोहण अभियान का आयोजन किया गया। आजादी के 75 वर्ष के आलोक में आईटीबीपी ने अपनी 75 सीमा चौकियों के नजदीक 75 ऐसी चोटियों को चिह्नित किया गया और आज सुबह 7 बजे इनपर एक साथ आरोहण कर लिया है ।

इन 75 चोटियों में 33 चोटियां लद्दाख में, 16 चोटियां उत्तऔराखंड में, 11 चोटियां सिक्किम में, 10 चोटियां हिमाचल प्रदेश में और 05 चोटियां अरूणाचल प्रदेश में स्थित हैं, जिन पर आज बल के हिमवीरों ने एक साथ आरोहण कर तिरंगा फहराने का अनूठा रिकॉर्ड बना दिया है। इनमें सबसे ऊँची चोटी 18,800 फीट पर सिक्किम में स्थित है। पर्वतारोहण के क्षेत्र में आईटीबीपी का विशेष कीर्तिमान है।

आजादी के 75 वर्ष पूरा होने पर आईटीबीपी द्वारा भारत-चीन सीमा पर एक 75 दिवसीय रिले लॉन्ग रेंज पेट्रोल (एलआरपी) अमृत का भी आयोजन किया जा रहा है। अमृत रिले एलआरपी 1 अगस्ते, 2022 को लद्दाख के काराकोरम पास से शुरू हुई थी और अपनी 75 दिन की यात्रा पूरी करते हुए 14 अक्टूिबर, 2022 को अरूणाचल प्रदेश के जाचेप ला में समाप्तु होगी। इस दौरान यह लगभग 7,575 किमी. की दूरी तय करेगी।

स्वतंत्रता दिवस पर आईटीबीपी ने अपने सभी केंद्रों, सीमा चौकियों और अन्य संबंधित संस्थापनाओं में ध्वजारोहण किया जिनमें लद्दाख से लेकर अरुणाचल प्रदेश की बल की सीमा चौकियां भी शामिल हैं। बल के जवानों ने पूरे उत्साह से स्वतंत्रता दिवस का पर्व मनाया और हर घर तिरंगा की थीम के साथ कई कार्यक्रम आयोजित किए जिनमें स्थानीय सीमावर्ती नागरिक भी शामिल हुए।

1962 में स्थापित आईटीबीपी 3488 किलोमीटर लंबी भारत चीन की सीमा की सुरक्षा करती है। बल के जवान विषम भौगोलिक और मौसमी परिस्थितियों में सीमा की सुरक्षा करते हैं। साहसिक खेलों में आईटीबीपी अग्रणी है।