मेट्रो सुरंग खुदाई की वजह से मकानों में दरार, पुलिस ने पूरा इलाका खाली कराया

कोलकाता, 12 मई । मध्य कोलकाता के भीड़भाड़ वाले बउबाजार में जमीन के नीचे चल रहे मेट्रो रेल के सुरंग खुदाई की वजह से यहां के मकानों में एक बार फिर दरारें पड़ने लगी हैं जिससे इनके किसी भी समय गिरने की आशंका उत्पन्न हो गई है। इसीलिए सावधानी बरतते हुए पुलिस ने इन मकानों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचाया है।

गुरुवार को पुलिस ने बताया कि कोलकाता पुलिस की आपदा प्रबंधन टीम ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और मेट्रो रेल अधिकारियों के साथ दुर्गा पिथुरी लेन का दौरा किया। अधिकारियों ने बताया कि दरारें सबसे पहले बुधवार रात करीब 9.45 बजे देखी गईं। घरों में दरारें आने के बाद यहां के निवासी आवश्यक चीजों के साथ अपने आश्रयों से बाहर निकल आए। दुर्गा पिटुरी लेन मध्य कोलकाता के बाउबाजार इलाके में एक अत्यंत भीड़भाड़ वाली गली है, जिसमें अधिकांश आवासीय घर बेहद पुराने और जीर्ण-शीर्ण अवस्था में हैं।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, हम इमारतों को खाली करा रहे हैं। हमें अभी यह पता लगाना है कि कितने घरों में ऐसी दरारें आई हैं। अभी तक पांच इमारतें ऐसी हैं, जिनमें दरारें आ गई हैं। हमारे विशेषज्ञों की टीम मौके पर पहुंच गई है।

साल्ट लेक सेक्टर पांच को कोलकाता के रास्ते हावड़ा से जोड़ने वाला 16.6 किलोमीटर लंबा ईस्ट वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर की सुरंग खुदाई का काम बउबाजार में चल रहा है। अगस्त 2019 में इसी क्षेत्र में मेट्रो के कार्यों की वजह से कुछ इमारतों में दरार आ गई थी और कुछ इमारतों के हिस्से गिर गए थे जिसके बाद काम बंद कर दिया गया था।

कोलकाता मेट्रो रेलवे कॉर्पोरेशन लिमिटेड (केएमआरसीएल) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, हमारे इंजीनियर मौके पर पहुंच गए हैं। वे देख रहे हैं। हमारी पहली प्राथमिकता लोगों को निकालना है और फिर हम घटना के कारणों का पता लगाएंगे।

उधर इस घटना ने स्थानीय लोगों के लिए 2019 की यादें ताजा कर दीं, जिन्हें शहर में दिन भर की बारिश के बीच अपने घरों से बाहर निकलना पड़ा है। इलाके की एक वृद्धा मल्लिका दास ने बताया, पिछली बार, हमें अपना घर छोड़कर एक होटल में रुकना पड़ा था। मैं इस बार अपना सामान भी नहीं ले जा सकी। पूरी इमारत झुक गई है।

स्थानीय तृणमूल विधायक नयना बंद्योपाध्याय ने भी घटनास्थल का दौरा किया और स्थानीय लोगों से बात की। उन्होंने कहा, हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हर कोई सुरक्षित रहे। हम संबंधित अधिकारियों के संपर्क में हैं।