हरियाणा के बिजली निगम देश भर में दूसरे स्थान पर: रणजीत सिंह

हरियाणा के बिजली निगम देश भर में दूसरे स्थान पर: रणजीत सिंह

-प्रदेश के इतिहास में हरियाणा डिस्कॉम का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन

चंडीगढ़ 17 जुलाई । केंद्र सरकार द्वारा देशभर की 41 पावर डिस्ट्रिब्यूशन कंपनियों की परफॉर्मेंस के आधार पर जारी की गई वित्त वर्ष 2019-20 की रेटिंग में हरियाणा बिजली वितरण निगमों ने देश में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। प्रदेश के इतिहास में हरियाणा डिस्कॉम का यह अब तक का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन रहा है।

हरियाणा के बिजली, जेल एवं अक्षय ऊर्जा मंत्री रणजीत सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल जी के विजनरी नेतृत्व में बिजली विभाग ने यह मुकाम हासिल किया है। उन्होंने कहा कि शुक्रवार देर सायं केंद्रीय विद्युत, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आर. के. सिंह ने नौवीं डिस्कॉम्स इंटिग्रेटिड रेटिंग जारी की। केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय द्वारा आई.सी.आर.ए. तथा एनालिस्टिक्स लिमिटेड और केयर एडवाइजरी रिसर्च एंड ट्रेनिंग लिमिटेड के सहयोग से देश की विभिन्न पावर कंपनियों के कार्यों समीक्षा की जाती है। देश में इस तरह की पहली रैंकिंग वित्त वर्ष 2012-13 में की गई थी।

सिंह ने बताया कि नौवीं डिस्कॉम्स इंटिग्रेटिड रेटिंग में गुजरात की चार कंपनियों के साथ राज्य की दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम लिमिटेड को ए ग्रेड मिला है तथा उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम लिमिटेड को ग्रेड प्राप्त करने में सफलता मिली है। देश के सभी राज्यों की परफॉर्मेंस में गुजरात की चारों कम्पनियों को पहला स्थान प्राप्त हुआ है और हरियाणा ओवरऑल दूसरे स्थान पर रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा की परफॉर्मेंस काफी बेहतर हुई है। इसलिए बिजली के क्षेत्र में हमारी सरकार की ओर से किए गए नए-नए प्रयोगों और दूरदर्शी विजन की वजह से राज्य को रेटिंग में ऐतिहासिक उच्च स्थान प्राप्त हुआ है।

बिजली मंत्री ने बताया कि उचित रेटिंग के लिए कईं मानकों का अध्ययन किया जाता है। इसमें पहला मानक ऑपरेशनल व रिफॉर्म पैरामीटर है, जिसके लिए 43 अंक निर्धारित किए गए हैं। इसमें लॉसिस के लिए पावर परजेज, कॉस्ट एफिसेंसी, आरपीओ कॉपींलेंस, कॉर्पोरेट गर्वनेंस शामिल हैं। इसका दूसरा एक्सटरनल पैरामीटर 15 स्कोर का है, जिसमें रेगुलेटरी तथा गर्वमेंट स्पोर्ट के अंक दिए जाते हैं। इसी प्रकार तीसरा 42 स्कोर का फाइनेंसियल पैरामीटर है, जिसमें कॉस्ट कवरेज रेसियो, इंटररेस्ट कवररेज रेसियो, ऑडिट, सस्टेनबिलिटी, रिसेवबल्स आदि शामिल हैं। हरियाणा के दोनों निगमों को बहुत उच्च परिचालन और वित्तीय प्रदर्शन क्षमता के आधार पर अच्छी रैंकिंग मिली है।