बसपा के वोट बैंक तोड़ने का फार्मूला लेकर सक्रिय हुए चंद्रशेखर रावण

बसपा के वोट बैंक तोड़ने का फार्मूला लेकर सक्रिय हुए चंद्रशेखर रावण

लखनऊ, 14 जनवरी(हि.स.)। समाजवादी पार्टी(सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव से आजाद समाज पार्टी को गठबंधन में शामिल करने के लिए चंद्रशेखर रावण दो मुलाकात कर चुके हैं। शुक्रवार को एक बार फिर बसपा के वोटबैंक को तोड़ने का फार्मूला लेकर चंद्रशेखर रावण को समाजवादी पार्टी के जनेश्वर मिश्र ट्रस्ट भवन में सक्रिय पाया गया।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव छोटे राजनीतिक दलों से गठबंधन कर सीटें बांटने में लगे हुए हैं तो इसी बीच आजाद समाज पार्टी की इंट्री हुई है। आजाद समाज पार्टी के अध्यक्ष और भीम आर्मी के संयोजक रहे चंद्रशेखर आजाद उत्तर प्रदेश में एसस-एसटी आरक्षण के मुद्दे पर राजनीति करते हुए सक्रिय हुए। बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर के आदर्शो पर स्वयं की कार्य योजना बनाने वाले रावण ने प्रदेश में आरक्षण के मुद्दों पर हुए शिक्षण आंदोलन में अगुवाई भी की।

अखिलेश यादव के जातीय समीकरण वाली बैठकों में दलित सीटों पर पकड़ कमजोर होता देखा गया। इसके बाद सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर के हस्तक्षेप के बाद चंद्रशेखर रावण को लेकर अग्रिम योजनाओं पर बैठकें तय हुई। जिसमें दो बार वार्ता सफल नहीं हो सकी। माना जा रहा है कि बसपा की मजबूत पकड़ वाली सीटों पर अखिलेश यादव चंद्रशेखर रावण का उपयोग कर सकते हैं।

चंद्रशेखर रावण की आजाद समाज पार्टी को अखिलेश यादव कुछ सीटें देकर चुनाव मैदान में उतार सकते है तो समाजवादी पार्टी के दलित सीटों पर प्रत्याशियों को चंद्रशेखर रावण अपना समर्थन दें सकते हैं।