तमिलनाडु के मुख्यमंत्री स्टालिन ने प्रधानमंत्री मोदी से की मुलाकात

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री स्टालिन ने प्रधानमंत्री मोदी से की मुलाकात

नई दिल्ली, 17 जून । तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात कर राज्य से संबंधित 25 मांगों का ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री के रूप में उनकी यह पहली दिल्ली यात्रा है।

मुख्यमंत्री स्टालिन ने गुरुवार शाम को प्रधानमंत्री मोदी से उनके आवास पर मुलाकात की और दोनों नेताओं के बीच करीब 30 मिनट तक बैठक चली। बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने इस साल मेडिकल प्रवेश परीक्षा राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) सहित अन्य सभी राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षाओं को रद्द करने के अलावा अन्य मांगों को लेकर एक ज्ञापन सौंपा। इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री को रेशम की शॉल भेंट की।

प्रधानमंत्री के साथ बैठक को सुखद और संतोषजनक बताते हुए मुख्यमंत्री स्टालिन ने राज्य के लिए और अधिक कोविड वैक्सीन आवंटन की मांग की है। यह भी मांग की है कि केंद्र सरकार जल्द से जल्द चेंगलपट्टू एचएलएल बायोटेक संयंत्र को चालू करने के लिए आगे आए और कोविड वैक्सीन उत्पादन के लिए भारतीय पाश्चर संस्थान को भी शुरु करे।

मुख्यमंत्री ने पिछड़े वर्गों के कल्याण के संबंध में राज्य की संरचना के आधार पर एमबीसी, एससी और एसटी के लिए आरक्षण आवंटित करने और पिछड़े वर्गों की पहचान करने के लिए आय सीमा को वापस लेने के लिए एक संवैधानिक संशोधन की मांग की है। वह यह भी चाहते हैं कि केंद्र सरकार थिरुकुरल को राष्ट्रीय साहित्य घोषित करे। उल्लेखनीय है कि तिरुवल्लुवर की पुस्तक थिरुकुरल को तमिल लोग जीवन के विभिन्न सिद्धांतों के लिए आदर्श मानते हैं।

स्टालिन ने नई शिक्षा नीति-2020 को रद्द करने और नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) को खत्म करने और 14वें वित्त आयोग के लंबित अनुदानों को जारी करने की मांग की है। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन आज दो दिवसीय दौरे पर नई दिल्ली पहुंचे। मुख्यमंत्री स्टालिन शुक्रवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी से भी मुलाकात करेंगे। वह दिल्ली में द्रमुक पार्टी कार्यालय के कामकाज की भी जायजा लेंगे।