किसानों ने दिया धरना, चक्काजाम से अलग रहा भारतीय किसान संघ

किसानों ने दिया धरना, चक्काजाम से अलग रहा भारतीय किसान संघ

किसानों ने दिया धरना, चक्काजाम से अलग रहा भारतीय किसान संघ

जोधपुर, 06 फरवरी । केंद्र सरकार की ओर से लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों ने जोधपुर जिले में नागौर रोड पर नेतड़ा टोल नाके के पास धरना देकर अपना विरोध जताया। चक्काजाम को देखते हुए यहां भारी पुलिस जाब्ता तैनात किया गया था। यहां रास्ता खुला रहा। वहीं देशभर में घोषित चक्का जाम से भारतीय किसान संघ ने अपने आप को अलग रखा।

दरअसल किसानों ने शनिवार को दोपहर 12 से 3 बजे तक तीन घंटे के लिए देशभर में हाइवे जाम का आह्वान किया था। कांग्रेस ने किसानों के इस आंदोलन को पूरा समर्थन दिया। पाली के पूर्व सांसद व मुख्यमंत्री गहलोत के करीबी बद्रीराम जाखड़, पूर्व विधायक नारायणराम बेड़ा सहित कुछ लोगों ने आज किसानों के समर्थन में संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले धरना दिया। धरने में गिने-चुने लोग ही शामिल हुए। हालांकि यहां बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया।

उल्लेखनीय है कि जोधपुर में कांग्रेस संगठन अभी तक किसानों के समर्थन में होने वाले आंदोलनों में अपनी सक्रिय भूमिका नहीं निभा पाया है। पूर्व में किसानों के भारत बंद और ट्रैक्टर रैली के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ता पूरी तरह से नदारद रहे। सचिन पायलट को प्रदेशाध्यक्ष पद से मुक्त किए जाने के साथ ही जिला कार्यकारिणी भी भंग कर दी गई थी। उसके बाद से कांग्रेस संगठन की कोई गतिविधि देखने को नहीं मिल रही है।

इधर भारतीय किसान संघ के प्रांत प्रचार प्रमुख तुलछाराम सिंवर ने बताया कि करीब 70 दिनों से दिल्ली की सीमा पर जो किसान आंदोलन चल रहा है पहले यह थोड़ा राजनैतिक लगता था, अब वहां अधिकांश राजनैतिक दलों और नेताओं का जमावड़ा चल रहा है इससे आंदोलन मुद्दे से भटक गया है। भारतीय किसान संघ ने पहले दिन से ही ऐसा अंदेशा प्रकट किया था कि यह आंदोलन मंदसोर जैसा हिंसक रूप ले सकता है संभवत 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के दिन जिस तरह से दिल्ली की सडक़ों पर हिंसा हुई जिससे भारतीय किसान संघ की आशंका सही साबित हुई। इसलिए भारतीय किसान संघ ने चक्का जाम से अपने आपको अलग रखा।