भूखे-प्यासे लेपर्ड ने परिवार पर हमला कर हाथ-पैर, कान चबाए, सात घायल

पाली, 20 मई । पाली जिले के देसूरी थाना क्षेत्र में सालों से इंसान और लेपर्ड की दोस्ती की मिसालें दी जाती रही है, लेकिन शुक्रवार को यह मिसाल टूट गई। यहां जंगल से भूखा-प्यासा लेपर्ड शुक्रवार सुबह रहवासी इलाके में घुस गया। एक मकान में घुसकर परिवार के लोगों पर हमला कर दिया। हाथ, पैर और कान तक चबा गया। चिल्लाने की आवाज सुनकर आस-पास के लोग लाठियां लेकर लेपर्ड के पीछे भागने लगे और पीटकर उसे चोटिल कर दिया। इसके बाद वह एक बाड़े में जाकर दुबक गया। लेपर्ड के हमले में करीब 7 लोग घायल हो गए। क्षेत्रीय वन विभाग अधिकारी और पुलिस ने मौके पर जाकर भीड़ को भगाया। रेस्क्यू करने के लिए राजसमंद से टीम को बुलाया गया।

सुबह करीब चार बजे खाने की तलाश में लेपर्ड कोटड़ी गांव आ गया। गांव में आकर वह घीसाराम के कच्चे मकान में घुस गया। घर में परिवार सो रहा था। लेपर्ड ने हमला कर चार लोगों को जख्मी कर दिया। किसी के हाथ तो किसी के पैर पर काट लिया। एक का तो कान ही चबा गया। लोगों के चिल्लाने पर लेपर्ड निकट के एक बाड़े में जा छुपा। घबराए लोग घर से बाहर निकल आए। जानकारी मिलने पर बड़ी संख्या में ग्रामीण भी मौके पर पहुंच गए। सूचना पर देसूरी से क्षेत्रीय वन विभाग के अधिकारी करण सिंह राजपुरोहित, वन्यजीव अभ्यारण्य के क्षेत्रीय वन अधिकारी भैरूसिंह व देसूरी थाना पुलिस भी पहुंची। रेस्क्यू के लिए आवश्यक संसाधन नहीं होने के कारण राजसमंद से टीम मौके पर बुलाई गई।

लेपर्ड के हमले से घीसाराम (70), पत्नी हंजादेवी (65), बेटी का 12 साल का लड़का मुकुल और पड़ोसी महेन्द्र कुमार, मोटाराम (70), हेमादेवी (70) और राजूराम घायल हो गए। दो की हालत गंभीर होने पर उन्हें प्राथमिक उपचार के लिए हॉस्पिटल ले जाया गया।