कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र खत्म : डॉ. पूनियां

कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र खत्म : डॉ. पूनियां

जयपुर, 14 जून । राज्य की बिगड़ी हुई कानून व्यवस्था, कांग्रेस सरकार में अतंर्कलह पर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि, अशोक गहलोत सरकार की बुनियाद जुगाड़ से हुई थी, जब सरकार बनी थी तब गहलोत ने बसपा, निर्दलीय, और अपनी पार्टी के बहुत सारे विधायकों को लॉलीपॉप दी होगी। राजस्थान शांतिप्रिय प्रदेश था, तकलीफ इस बात की है कांग्रेस के इस अंतर्कलह का पिछले 70 साल की राजनीति में इस तरह का दृश्य कभी नहीं देखा, इससे समझ में आता है कि कांग्रेस के अंदर आंतरिक लोकतंत्र भी खत्म हो गया है, कांग्रेस के पास समाधान भी नहीं है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार के झगड़े से देश-दुनिया में प्रदेश की छवि धूमिल हुई है, लोगों का व्यवस्था व शासन से भरोसा उठा है, तभी अपराध, अराजकता, बेरोजगारी, एक किस्म से आर्थिक कुप्रबंधन साफ तौर पर दिखाई देता है। और कमजोर सरकार जब कोई आपदा आती है तो किस तरीके से खुद कमजोर हो जाती है इसका उदाहरण कोरोना कुप्रबंधन है, राजस्थान में सरकार की इस नैतिक कमजोरी के कारण कोविडकाल में काफी लोगों को मौत के मुंह में जाना पड़ा, यदि उनके मंत्रिमंडल में चुस्ती, मुस्तैदी, एकता व जागरूकता, अच्छा संगठन व अच्छी सरकार होती तो शायद कोरोना में राजस्थान बेहतर कर पाता।

उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस के एक विधायक यह बोलें कि कुछ विधायकों ने फोन टेपिंग-जासूसी की बात की है, तो क्या यह मुख्यमंत्री की तरफ इशारा नहीं है? क्या मुख्यमंत्री की यह विधायकों को डराने की साजिश-षडयंत्र नहीं है?

राज्य की बिगड़ी हुई कानून व्यवस्था को लेकर डॉ. पूनियां ने कहा कि, राजस्थान शांतिपूर्ण प्रदेश था, अब सर्वाधिक अपराधग्रस्त राज्यों में शुमार हो गया है, यह बात नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो कहता है।

दुनिया का हर तीसरा पर्ययक राजस्थान में आता था, लेकिन बिगड़ी कानून व्यवस्था से राजस्थान के निवेश, पर्यटन व बाकि चीजों पर सीधा असर पड़ेगा, इन सबके लिये राजस्थान के गृहमंत्री जिम्मेदार हैं।

प्रदेश भाजपा के होर्डिंग्स में फोटो को लेकर पूछ गये सवाल के जवाब में डॉ. पूनियां ने कहा कि, भाजपा में हर चीज का एक निश्चित प्रोटॉकॉल होता है, जो केन्द्रीय नेतृत्व तय करता है। किसके पोस्टर लगें, किसके फोटो लगें यह भाजपा राजस्थान इकाई तय नहीं करती, राजस्थान सहित सभी राज्यों के लिये पार्टी का केन्द्रीय नेतृत्व प्रॉटोकॉल तय करता है, जिसकी हम सब पालना करते हैं। एक निश्चित प्रोटॉकॉल के अनुसार होर्डिंग्स पर सभी राज्यों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, जिस राज्य में पार्टी सत्ता में हैं वहां मुख्यमंत्री के फोटो के साथ प्रदेश अध्यक्ष का फोटो लगता है, जहां पार्टी विपक्ष में है वहां नेता प्रतिपक्ष व प्रदेश अध्यक्ष का फोटो लगाने का प्रोटॉकॉल यह सब दिल्ली से तय हुआ है। उन्होंने कहा कि भाजपा में सैद्धांतिक व मौलिक तौर पर फोटो को लेकर कोई अंतरविरोध नहीं है, ना कोई गतिरोध है, इसके बारे में कोई सियासी तौर पर सोचता है तो बिल्कुल गलत है, पार्टी के प्रॉटॉकॉल की अनुपालना होती है।