भगवान जगन्नाथ की महाआरती के साथ अलवर में गुरुवार से होगा मत्स्य उत्सव का आगाज

भगवान जगन्नाथ की महाआरती के साथ अलवर में गुरुवार से होगा मत्स्य उत्सव का आगाज

अलवर, 23 नवंबर । अलवर जिला प्रशासन एवं पर्यटन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में मत्स्य उत्सव 24 से 27 नवम्बर तक आयोजित होगा।

जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी ने समस्त नागरिकों से आह्वान किया है कि मत्स्य उत्सव प्रत्येक नागरिक का उत्सव है इसमें बढ चढकर अपनी भागीदारी निभाएं। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा पहली बार इस आयोजन को सिटीजन सेंटरिक बनाने की कोशिश की गयी है। जिसके लिए सभी नागरिकों की सहभागिता की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि अलवर जिले की व्यापक भौगोलिक, सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक विशेषताओं को विश्व पटल तक ले जाने का प्रयास है जिससे अलवर जिले में पर्यटन में इजाफा हो सके।

उन्होंने बताया कि मत्स्य उत्सव का आगाज 24 नवम्बर को प्रात: 5.30 बजे जगन्नाथ जी मन्दिर में महाआरती के साथ किया जाएगा। उसके बाद प्रात: 7.30 बजे से नेहरू गार्डन सेल्फी पांइट से मोती डूगरी तक रन फॉर अलवर का आयोजन, प्रात: 10 बजे से भर्तृहरि पैनोरमा पर निबंध और स्लोगन राइटिंग का आयोजन, शाम 4 बजे से कम्पनी बाग पुरजन विहार में सर्वधर्म प्रार्थना और शाम 5 बजे से भर्तृहरि मंदिर सरिस्का में श्री भर्तृहरि के जीवन पर कार्यक्रम आयोजन करवाया जाएगा। 24 नवंबर को ही दोपहर 1 बजे अलवर के माचाडी में भी खेलकूद और सांस्कृतकि कार्यक्रम करवाये जाएंगे।

पच्चीस व छब्बीस नवंबर को भी प्रात: 9:30 बजे से सांय 5 बजे तक इंदिरा गांधी स्टेडियम में पैरासेलिंग, हॉट एयर बैलून, जोरबिंग, रॉक क्लिम्बिक एवं सेंड आर्ट का आयोजन करवाया जाएगा। इसी दिन सुबह 10.30 बजे से पुरजन विहार में पेट एनिमल शो, 11 बजे से जीडी कालेज में अलवर को जानो क्विज और तिजारा के भर्तृहरि गुंबद पर 1 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम करवाया जाएगा। दोपहर 1.30 बजे मूसी महारानी की छतरी पर अलवर पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए स्पेशल कवर विमोचन किया जाएगा। 25 नवम्बर को ही सागर पर 2.30 बजे से पैडल बोट रेस का आयोजन किया जाएगा। दोपहर 3.30 बजे से पारंपरिक शोभा यात्रा होप सर्कस से सागर तक निकाली जाएगी।

उन्होंने बताया कि 26 नवम्बर को प्रात: 9 बजे से मूसी महारानी की छतरी पर फोटो प्रदर्शनी, 10 बजे से फतेहजंग गुंबद पर मेहंदी, रंगोली, पेंटिंग प्रतियोगिता, 10.30 बजे से पुरजन विहार में फ्लोरल शो, 12 बजे से सिलीसेढ की पाल पर साँस्कृतिक कार्यक्रम, 12.30 बजे से पाण्डुपोल मंदिर में भजन कार्यक्रम, दोपहर 1 बजे नीलकंठ में क्विज और पेंटिंग प्रतियोगिता, दोपहर 2 बजे से सरिस्का सफारी विंडो पर पर्यटकों के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम करवाए जाएंगे। शाम 6 बजे से महल चौक में लोक कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम करवाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि 27 नवंबर को प्रात: 7 बजे से हेरिटेज टू हेरिटेज साइकिल रैली पुरजन विहार से शुरू होकर जयसमन्द तक जाएगी। प्रात: 10 बजे से सूचना केंद्र में डाक विभाग द्वारा डाक टिकट प्रदर्शनी मत्स्य पेकस, दोपहर 12 बजे भानगढ में सांस्कृतिक कार्यक्रम और प्रतापबंध चौकी पर एक बजे से बफर सफारी में जाने वाले पर्यटकों के लिए कार्यक्रम करवाए जाएंगे। 27 नवंबर को ही सांय 6 बजे से महल चौक में आयोजित म्यूजिकल नाइट से मत्स्य उत्सव का समापन किया जाएगा।