कांग्रेस की महंगाई हटाओ रैली की तैयारियों का वेणुगोपाल और माकन ने लिया जायजा

कांग्रेस की महंगाई हटाओ रैली की तैयारियों का वेणुगोपाल और माकन ने लिया जायजा

जयपुर, 03 दिसंबर । प्रदेश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमीक्रोन की आहट के बीच जयपुर में बारह दिसंबर को होने वाली कांग्रेस की महंगाई हटाओ महारैली की तैयारियां जोर शोर से शुरू हो गई हैं। रैली के आयोजन को लेकर संगठन महासचिव के.सी. वेणुगोपाल और प्रदेश प्रभारी अजय माकन शुक्रवार को जयपुर पहुंचे और प्रस्तावित रैली स्थल विद्याधर नगर स्टेडियम का दौरा किया। उनके साथ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट भी मौजूद रहे। स्टेडियम के दौरे के बाद मुख्यमंत्री गहलोत ने केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि राष्ट्रीय रैली को दिल्ली में इस प्रकार से अनुमति नहीं देना दुर्भाग्यपूर्ण है। महंगाई का मुद्दा पूरे मुल्क में बना हुआ है, तो ऐसे वक्त में अगर पूरे देशवासियों की भावनाओं का ये रैली प्रतिनिधित्व करती है, तो क्या कारण था कि उन्होंने उसको मना कर दिया?

गहलोत ने कहा, हम सोनिया, राहुल गांधी का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने जयपुर को चुना है और मैं उम्मीद करता हूं कि राजस्थान के साथ पूरे देश से लोग जयपुर आएंगे और बहुत कामयाब रैली होगी। रैली को लेकर केन्द्र सरकार में घबराहट को लेकर पूछे गए सवाल पर सीएम ने कहा कि केंद्र सरकार तो देशवासियों की सुनवाई कर ही नहीं रही है। चाहे महंगाई हो आम आदमी के लिए, चाहे किसान हो, कोई परवाह ही नहीं कर रहे हैं वो। वो तो अहम-घमंड में ही मर रहे हैं और जनता उनको आने वाले वक्त में सबक सिखाएगी। 2024 में घमंड चूर होने का दावा करते हुए गहलोत ने कहा कि घमंड और अहम किसी का काम नहीं आता है, डेमोक्रेसी के अंदर आपको विनम्र रहना पड़ता है।

स्टेडियम का दौरे के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रैली की तैयारियों को लेकर अपने निवास पर मंत्रिपरिषद की बैठक बुलाई। बैठक में गहलोत मंत्रिमंडल के सदस्यों के अलावा संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, प्रदेश प्रभारी अजय माकन और प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी मौजूद रहे। बैठक में रैली स्थल, रूट चार्ट सहित तमाम बिंदुओं पर चर्चा हुई। सभी से सुझाव भी लिए गए। इसके साथ ही अधिक से अधिक संख्या में लोगों को एकत्रित किया जा सके इसकी जिम्मेदारी भी दी गई।

मंत्रिपरिषद की बैठक के बाद प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में पार्टी पदाधिकारियों और वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की बैठक का आयोजन किया गया। पीसीसी में बैठक के बाद प्रदेश प्रभारी माकन ने पत्रकारों से कहा कि कांग्रेस लीडरशिप ने बड़ा भरोसा राजस्थान के कार्यकर्ताओं और प्रदेश नेतृत्व पर जताया है। पहली बार महंगाई के महत्वपूर्ण मुद्दे पर दिल्ली से बाहर जयपुर में राष्ट्रीय रैली हो रही है। रैली के लिए जयपुर को चुना गया है। यह जयपुर और राजस्थान के लिए गर्व की बात है। सभी नेता और कार्यकर्ता उत्साहित हैं। तय किया गया है कि कांग्रेस के सभी नेता, मंत्री, जिला, ब्लॉक के नेता गांव-गांव जाकर अगले तीन दिन तक बैठक लेंगे। महंगाई हटाओ रैली के लिए लोगों को प्रेरित करेंगे। उन्हें समझाएंगे किस तरह मोदी सरकार महंगाई के लिए जिम्मेदार है। पूंजीपति मित्रों को फायदा पहुंचाने के लिए महंगाई को बढ़ाया जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय लेवल पर महंगाई घट रही है, लेकिन हमारे देश में बढ़ रही है।

माकन ने कहा कि 12 दिसम्बर की जयपुर रैली में कांग्रेस पार्टी पूरी ताकत के साथ शामिल होगी। पूरे देशभर से कांग्रेस के बड़े नेता इसमें शामिल होंगे। सीएम, कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व, कांग्रेस वर्किंग कमेटी, सांसद सभी इसमें शामिल होंगे। सभी पड़ोसी राज्यों से लोग भी इस रैली में आएंगे। राजस्थान से अच्छी तादाद में कार्यकर्ता शामिल होंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अजय माकन व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंदसिंह डोटासरा से पत्रकारों ने पूछा कि कोरोना की तीसरी लहर के खतरे के बावजूद रैली क्यों? इस पर तीनों ने कोई जवाब नहीं दिया और पीसीसी से बाहर निकल गए। जब बाहर गाड़ी में बैठे गहलोत से फिर से वही सवाल किया गया तो हाथ जोड़कर बिना कुछ बोले निकल गए।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस की ओर से दी गई रिपोर्ट के बाद उप राज्यपाल की ओर से कांग्रेस को रैली की अनुमति नहीं देने के बाद पार्टी ने दिल्ली में होने वाली महंगाई हटाओ महारैली को राजधानी जयपुर में शिफ्ट करने की निर्णय किया था। रैली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका और सांसद राहुल गांधी समेत पार्टी के अधिकांश दिग्गज नेता मौजूद रहेंगे। पार्टी की ओर से शक्ति प्रदर्शन के तौर पर देखी जा रही इस महंगाई हटाओ रैली में देशभर से कांग्रेस कार्यकर्ताओं के आने की संभावना है। रैली में डेढ से दो लाख से अधिक लोगों के आने का दावा किया जा रहा है।