सही समय पर नहीं हो रहा है धान बीज का अंकुरण, किसान चिंतित

सही समय पर नहीं हो रहा है धान बीज का अंकुरण, किसान चिंतित

दो सौ क्विंटल उन्नत किस्म के बासमती धान बीज का हुआ है वितरण

कृषि विभाग ने कहा सर्वे कराकर किसानों को दिया जाएगा मुआवजा

धमतरी, 30 अगस्त ।किसानों को सशक्त और समृद्ध बनाने के लिए खरीफ सीजन में राष्ट्रीय बीज निगम के माध्यम से उन्नत किस्म के बासमती धान बीज का वितरण किया गया। किसानों को बांटे गए धान बीज में 120 दिन की बजाय 40 से 50 दिनों में ही अंकुरण हो रहा है, इससे जिले के किसान चिंतित हो गए हैं। उन्हें संभावित नुकसान की आशंका सता रही है। किसानों ने इस संबंध में तत्काल सर्वे कराकर उचित मार्गदर्शन देने की मांग की है।

धमतरी जिले में बड़े पैमाने पर रबी व खरीफ सीजन में किसानों द्वारा धान का उत्पादन किया जाता है। किसानों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से इस साल खरीफ सीजन में कृषि विभाग द्वारा चारों ब्लाक में 200 क्विंटल उन्नत किस्म के बासमती धान बीज का वितरण किया गया। किसानों को जब यह धान बीज बांटा गया तब कहा गया था कि 120 दिनों के बाद धान का उत्पादन शुरू होगा, लेकिन 40 से 45 दिनों में ही रोपे गए धान के पौधों में अंकुरण शुरू हो गया है, इससे अंचल के किसान चिंतित हो गए हैं। किसानों को अभी से नुकसान की चिंता सता रही। किसी किसान ने तीन एकड़ तो किसी ने पांच एकड़ में धान की रोपाई की है।

जानकारी के अनुसार मगरलोड ब्लाक के ग्राम बिरझुली, केकराखोली, सिंगपुर, पठार बूढ़ाराव, मारागांव, मोहेरा, बोदलबाहारा सहित अन्य गांवों में किसानों को कृषि विभाग द्वारा उन्नत किस्म के बासमती धान बीज का वितरण किया गया है। इसी तरह नगरी ब्लाक, कुरुद ब्लाक व धमतरी ब्लाक के किसानों को बासमती धान बीज का वितरण किया गया है।

बनरौद के किसानों ने कहा हमारे साथ हुआ धोखा

कृषि विभाग से बासमती धान लेकर रोपाई करने वाले किसान बीरेंद्र यादव बताते हैं कि 120 दिन की बजाय का धान 40 से 45 दिनों में तैयार हो रहा है। धान में बाली निकलना शुरू हो गया है।अभी धान का पौधा ढंग से संभला भी नहीं है। किसानों को बहुत नुकसान हो रहा है। किसानों के हाथ में एक बीज भी नहीं आएगा। इस धान को लगाने से कोई फायदा नहीं होगा। ग्राम बनरौद के किसान दयालु नेताम, बरसु मरकाम सहित अन्य किसानों के साथ धोखाधड़ी हुआ है। इसकी जांच कराकर मुआवजा दिया जाए।

बीज की गुणवत्ता न होने पर होता है ऐसा

समय से पूर्व यदि बीज का अंकुरण शुरू हो गया है तो यह बीच की गुणवत्ता की कमी है। हो सकता है किसानों को गुणवत्ता वाले बीज न मिले हों।

डा एसएस चंद्रवंशी कृषि वैज्ञानिक, कृषि विज्ञान केंद्र संबलपुर धमतरी

क्या करें क्या करें किसान-

कृषि विभाग द्वारा वितरित किए गए धान बीज समय से पूर्व अंकुरित हो रहे हैं तो किसानों को इसकी जानकारी रोजगार रोजगार सहायक या कृषि विभाग के मैदानी अधिकारियों के माध्यम से उपसंचालक कृषि विभाग को दी जानी चाहिए।

सर्वे के बाद किसानों को दिलाया जाएगा मुआवजा

किसानों को सशक्त बनाने धमतरी जिले में राष्ट्रीय बीज निगम के माध्यम से किसानों को 200 क्विंटल बासमती धान बीज का वितरण किया गया है। किसानों से जानकारी मिली है कि हाइब्रिड धान बीज में उत्पादन की समस्या आ रही। इस संबंध में संबंधित कंपनी से किसानों को मुआवजा दिलाया जाएगा। इस संबंध में सर्वे चल रहा है।

जीएस कौशल, उपसंचालक कृषि विभाग धमतरी