सशस्त्र सेनाओं को मिलेगा स्वदेशी जीसैट-7सी सैटेलाइट, संचार नेटवर्क होगा मजबूत

सशस्त्र सेनाओं को मिलेगा स्वदेशी जीसैट-7सी सैटेलाइट, संचार नेटवर्क होगा मजबूत

- रक्षा अधिग्रहण परिषद ने मेक इन इंडिया की श्रेणी के तहत 2,236 करोड़ रुपये मंजूर किये

- उपग्रह जीसैट-7सी सैटेलाइट की डिजाइनिंग, विकास और प्रक्षेपण देश में ही किया जायेगा

नई दिल्ली, 23 नवम्बर । सशस्त्र सेनाओं के बीच संचार नेटवर्क मजबूत बनाने के लिए मंगलवार को मेक इन इंडिया की श्रेणी के तहत 2,236 करोड़ रुपये मंजूर किये गए हैं। वायुसेना ने सॉफ्टवेयर डिफाइंड रेडियो (एसडीआर) की रीयल-टाइम कनेक्टिविटी के लिए जीसैट-7सी सैटेलाइट खरीदने का प्रस्ताव सरकार के सामने रखा था, जिसे आज मंजूर किया गया है। इससे सशस्त्र बलों के बीच सुरक्षित मोड और सभी परिस्थितियों में एक दूसरे के बीच संचार नेटवर्क बढ़ेगा।

रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी) की बैठक आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई जिसमें वायुसेना के सॉफ्टवेयर डिफाइंड रेडियो (एसडीआर) की रीयल-टाइम कनेक्टिविटी के लिए जीसैट-7सी सैटेलाइट प्रस्ताव पर चर्चा के बाद मंजूरी दी गई। इस परियोजना के लिए जरूरत के आधार पर मेक इन इंडिया की श्रेणी के तहत 2,236 करोड़ रुपये मंजूर किये गए हैं। सॉफ्टवेयर डिफाइंड रेडियो के लिए उपग्रह जीसैट-7सी सैटेलाइट की डिजाइनिंग, विकास और प्रक्षेपण देश में ही किया जायेगा। इससे सशस्त्र बलों के बीच सुरक्षित मोड और सभी परिस्थितियों में एक दूसरे के बीच संचार नेटवर्क बढ़ेगा।