माराडोना जैसे फुटबॉलर दोबारा जन्म नहीं लेते : किरेन रिजिजू

माराडोना जैसे फुटबॉलर दोबारा जन्म नहीं लेते : किरेन रिजिजू

नई दिल्ली, 26 नवंबर । केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने अर्जेंटीना के महान फुटबॉलर डिएगो माराडोना के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उनके जैसे फुटबॉलर दोबारा जन्म नहीं लेते। माराडोना का 60 वर्ष की आयु में दिल का दौरा पड़ने से बुधवार को निधन हो गया। नवंबर के शुरू में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

रिजिजू ने कहा कि वह बेहद भाग्यशाली हैं कि उन्होंने माराडोना का जीवंत जादू देखा है।

रिजिजू ने ट्वीट किया,कोई दूसरा माराडोना फिर से पैदा नहीं होगा। वह फुटबॉल के पहले ऐसे सुपरस्टार हैं,जिन्हें हमने टेलीविज़न पर खेलते हुए लाइव देखा था। मैं महान पेले का लाइव गेम नहीं देख सका, लेकिन मैं बहुत भाग्यशाली हूं कि मैंने माराडोना का लाइव जादू देखा! श्रद्धांजलि गॉड ऑफ़ फ़ुटबॉल।

बता दें कि माराडोना को सबसे महान फुटबॉलरों में से एक माना जाता है। उनका पेशेवर फुटबॉल करियर 21 सालों तक चला। उन्होंने 1986 में अर्जेंटीना को वर्ल्ड कप जिताने में अहम रोल निभाया था। इस टूर्नामेंट में उनका विश्व प्रसिद्ध गोल भी शामिल है, जिसे हैंड ऑफ गॉड के नाम से जाना जाता है।

इसी गोल की मदद से अर्जेंटीना ने इंग्लैंड को टूर्नामेंट से बाहर कर दिया था। माराडोना बोका जूनियर्स, नपोली और बार्सिलोना के लिए क्लब फुटबॉल खेल चुके हैं। दुनिया भर में उनकी बहुत फैन फॉलोइंग रही है। ड्रग्स और शराब की लत के चलते वह कई बार विवादों में भी रह चुके हैं।