किसानों की आर्थिक मजबूती में सहायक बनेगी फसल बीमा

किसानों की आर्थिक मजबूती में सहायक बनेगी फसल बीमा

मीरजापुर, 04 जुलाई । कृषि विभाग ने खरीफ की फसलों की बीमा कराने के लिए किसानों को 31 जुलाई तक का समय दिया है। इसके तहत जितने भी किसान क्रेडिट कार्ड धारक हैं, उनका स्वत: बीमा हो जाएगा। इनमें से जो बीमा नहीं करना चाहते हैं, उन्हें क्रेडिट कार्ड से संबंधित बैंक में अंतिम तिथि के एक सप्ताह पहले लिखित देना होगा। बीमा के अभाव में यदि फसल को क्षति पहुंचती है तो उसके लिए संबंधित अन्नदाता जिम्मेदार होंगे।

वैसे फसल लगाने में आने वाले खर्च के आधार पर बीमा होता है, लेकिन अंतिम निर्णय जिलाधिकारी की अध्यक्षता वाली समिति लेगी ताकि बीमा कंपनी व पीड़ित किसान के मध्य कोई विवाद उत्पन्न न हो। इस कारण शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन समिति का गठन करता है। रबी 2021-22 में 21 हजार 91 किसान फसल बीमा कराए थे। जबकि सामान्य रूप से जिले में अन्नदाताओं की संख्या दो लाख 72 हजार है। यह मौसम के अनुसार खरीफ, जायद व रबी की खेती करते हैं। इसके अलावा पशुपालन से भी जुड़े हैं। यह किसान बागवानी भी करते हैं।

कृषि उप निदेशक अशोक उपाध्याय ने कहा कि दैवी व प्राकृतिक आपदा के कारण किसानों की फसल खेत में ही नष्ट हो जाती है। आर्थिक मजबूती के लिए सभी किसानों को फसल का बीमा करा लेना चाहिए। 31 जुलाई तक फसल बीमा होगा।

आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में सोमवार को फसल बीमा जागरूकता रथ को कलेक्ट्रेट परिसर से हरी झण्डी दिखाकर जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार ने रवाना किया। बताया कि यह रथ जनपद के सभी 12 विकास खण्डों में फसल बीमा जागरूकता के लिए जायेगा और आडियो के माध्यम से भी फसल बीमा का महत्व बताएंगा।