बेहतर लॉ एंड ऑर्डर, ट्रैफिक सुधार और क्वॉलिटी ऑफ लाइफ दिलाना मेरी प्राथमिकता: असीम अरुण

बेहतर लॉ एंड ऑर्डर, ट्रैफिक सुधार और क्वॉलिटी ऑफ लाइफ दिलाना मेरी प्राथमिकता: असीम अरुण

-कानपुर के पहले पुलिस कमिश्नर बने अपर पुलिस महानिदेशक असीम अरुण ने ग्रहण किया पदभार

-लखनऊ में आतंकी सैफुल्लाह को ढेर करने के बाद यूपी में क्राइम कंट्रोल के बने रीढ़

कानपुर, 27 मार्च । योगी सरकार ने जब राजधानी लखनऊ और गौतम बुद्ध नगर (नोएडा) में कमिश्नरी प्रणाली लागू की थी तभी कयास लगाया जा रहा था कि कानपुर को भी इस श्रेणी में लाया जाएगा। हुआ भी ऐसा और त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले ही रात को शासन ने वाराणसी और औद्योगिक नगरी कानपुर नगर पर कमिश्नरी प्रणाली लागू कर दिया।

कानपुर में पुलिस कमिश्नर बनाये गये आईपीएस असीम अरुण बिना समय गवाएं शुक्रवार को सर्किट हाउस पहुंचे, जहां पुलिस अधिकारियों ने बुके देकर सम्मानित किया। इसके बाद कानपुर के पहले पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने पदभार ग्रहण कर लिया। कानपुर में कमिश्नर प्रणाली लागू होते ही आईपीएस असीम अरुण को महानगर का पहला पुलिस कमिश्नर बनाया गया है।

असीम अरुण प्रदेश के तेज तर्रार आईपीएस अफसरों में गिने जाते हैं। उनके नाम कई ऐसे रिकॉर्ड हैं जो बिरले आईपीएस के पास होते हैं। आज संगीन अपराधों में स्वॉट (स्पेशल वेपन्स एंड टेक्टिक्स) टीम का उपयोग किया जाता है तो इसकी नींव रखने का श्रेय भी उन्ही को जाता है। एटीएस आईजी का पद संभालते हुए असीम अरुण के नेतृत्व में टीम ने वर्ष 2017 में लखनऊ में हुए एनकाउंटर में आतंकी सैफुल्लाह को मार गिराया था। इसके बाद वह यूपी में क्राइम कंट्रोल की रीढ़ माने जाने लगे।

गुरुवार को शासन ने असीम अरुण को कानपुर कमिश्नरी की जिम्मेदारी सौंपी थी और 24 घंटे के अंदर असीम अरुण शुक्रवार को कानपुर पहुंचे गये। देर शाम सर्किट हाउस पहुंचे असीम अरुण का पुलिस आलाधिकारियों ने बुके देकर सम्मानित किये। वहीं असीम अरुण ने भी आलाधिकारियों से बड़ी सादगी से परिचय प्राप्त कर कानपुर की यथा स्थित की जानकारी ली। इसके बाद उन्होंने पुलिस लाइन पहुचकर चार्ज संभालते हुए कानपुर कमिश्नर का पदभार ग्रहण कर लिया।

इस दौरान पत्रकारों ने सवालों का जवाब देते हुए कहा कि पुलिस आयुक्त प्रणाली सरकार द्वारा इस लिए लागू की गयी है ताकि जनता से जुड़ी समस्याओं पर पुलिस व्यवस्था बनायीं जा सके। इसके लिए और अधिक अधिकारियों के साथ विशेषज्ञ अधिकारियों को भी जनपद में नियुक्त किया जा रहा है।

पुलिस आयुक्त ने कहा कि कमिश्नरेट के रूप में कानपुर पुलिस का पहला टास्क कमिश्नरेट की व्यवस्था को स्थापित करना होगा। कमिश्नरेट व्यवस्था को इस तरह क्रियान्वित किया जायेगा जिससे कानपुर के नागरिकों को बेहतर सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था का लाभ सके।

पुलिस आयुक्त ने कहा कि कमिश्नर प्रणाली से कानपुर पुलिस व्यवस्था और सुधरेगी। इस प्रणाली से पुलिस को बड़ी शक्तियां और छोटी शक्तियां मिलेंगी और हमें बेहतर तालमेल बैठकर सभी विभागों के साथ मिलकर काम करना होगा। जनता के प्रति जवाबदेही के साथ मित्र पुलिसिंग की जाएगी। पुलिसकर्मियों पर भी आंतरिक निगाह रखी जायेगी। कार्यों के प्रति संवेदनहीन कर्मियों पर कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

उन्होंने बताया कि, बेहतर लॉ एंड ऑर्डर मिले, ट्रैफिक सुधरे और सबको क्वॉलिटी ऑफ लाइफ मिले, यही उद्देश्य है। नवागंतुक पुलिस आयुक्त के पदभार ग्रहण दे दौरान एडीजी भानु भास्कर, आईजी मोहित अग्रवाल, डीआईजी डॉ. प्रीतिंदर सिंह, एसपी पश्चिम डॉ. अनिल कुमार, एसपी पूर्वी शिवाजी, एसपी दक्षिण दीपक भूकर, एसपी यातायात बसंत लाल, एसपी क्राइम सहित सभी सर्किल के क्षेत्राधिकारी मौजूद रहें।