लखनऊ : शिक्षक अभ्यर्थियों पर हुए लाठी चार्ज को लेकर विपक्ष ने सरकार को घेरा

लखनऊ : शिक्षक अभ्यर्थियों पर हुए लाठी चार्ज को लेकर विपक्ष ने सरकार को घेरा

लखनऊ, 05 दिसम्बर । राजधानी में शनिवार की शाम आंदोलनरत सहायक शिक्षक अभ्यर्थियों पर हुए लाठी चार्ज की घटना को लेकर विपक्षी दलों के वरिष्ठ नेताओं ने प्रदेश सरकार को घेरा है।

प्रदेश में 69 हजार सहायक शिक्षक भर्ती में संशोधन करने की मांग को लेकर लखनऊ में आंदोलनरत अभ्यर्थियों ने शनिवार रात को कैंडिल मार्च निकाला था। इस दौरान पुलिस ने अभ्यर्थियों को मुख्यमंत्री आवास पर जाने से रोका। इस बीच हुई कहासुनी में पुलिस बल ने अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज कर दिया। इसमें कई अभ्यर्थी चुटहिल हुए है। वहीं, विधानसभा चुनाव नजदीक होने पर विपक्षी दलों ने इसे मुद्दा बनाकर प्रदेश सरकार को घेराना शुरु कर दिया है।

बसपा ने की मांग

बहुजन समाज पार्टी की सुप्रिमो मायावती ने ट्वीट कर कहा कि यूपी में 69 हजार शिक्षक भर्ती के पुराने व लम्बित मामले को लेकर राजधानी लखनऊ में कल रात शान्तिपूर्ण कैंडल मार्च निकालने वाले सैकड़ों युवाओं का पुलिस लाठीचार्ज करके घायल करना अति-दुःखद व निन्दनीय। सरकार इनकी जायज़ मांगों पर तुरन्त सहानुभूतिपूर्वक विचार करे, बीएसपी की यह मांग।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश बोले

अभ्यर्थियों पर हुई लाठीचार्ज को लेकर समाजवादी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह यादव बोले कि भाजपा के राज में भावी शिक्षकों पर लाठीचार्ज करके विश्व गुरु बनने का मार्ग प्रशस्त किया जा रहा है। हम 69 हजार शिक्षक भर्ती की मांगों के साथ हैं। युवा कहे आज का नहीं चाहिए भाजपा

राहुल गांधी ने किया ट्वीट

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मामले में सरकार को घेरा है। अपने अधिकारिका सोशल मीडिया एकाउंट ट्वीटर पर ट्वीट कर कहा कि रोज़गार मांगने वालों को यूपी सरकार ने लाठियां दीं।जब भाजपा वोट मांगने आए तो याद रखना!

वरुण गांधी बोले सभी मां भारती के लाल

पीलीभीत जनपद से भाजपा सांसद वरुण गांधी ने ट्वीट किया। कहा कि यह सभी बच्चे भी मां भारती के लाल हैं, इनकी बात मानना तो दूर, कोई सुनने को तैयार नहीं है। इस पर भी इनके ऊपर ये बर्बर लाठीचार्ज। अपने दिल पर हाथ रखकर सोचिए क्या ये आपके बच्चे होते तो इनके साथ यही व्यवहार होता। आपके पास रिक्तियां भी हैं और योग्य अभ्यर्थी भी, तो भर्तियां क्यों नहीं।

प्रियंका वाड्रा बोली

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका वाड्रा ने ट्वीट कर कहा कि उप्र के युवा हाथों में मोमबत्तियों का उजाला लेकर आवाज उठा रहे थे कि रोजगार दो।

लेकिन, अंधेरगर्दी की पर्याय बन चुकी योगी जी की सरकार ने उन युवाओं को लाठियां दीं। युवा साथियों, ये कितनी भी लाठियां चलाएं, रोजगार के हक की लड़ाई की लौ बुझने मत देना। मैं इस लड़ाई में आपके साथ हूं। इसके अलावा कई राजनेताओं ने पुलिस द्वारा अभ्यर्थियों को लाठी से पीटने के वायरल वीडियो को लेकर अपनी प्रतिकियाएं दी है।