ताजे पानी के कछुए बतागुर कचुगा के संरक्षण के भारत के प्रस्ताव को सीओपी 19 में मिला समर्थन

ताजे पानी के कछुए बतागुर कचुगा के संरक्षण के भारत के प्रस्ताव को सीओपी 19 में मिला समर्थन

नई दिल्ली, 24 नवंबर । पनामा सिटी में वन्य जीवों और वनस्पतियों (सीआईटीईएस) की लुप्तप्राय प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर कन्वेंशन के लिए पार्टियों के सम्मेलन (सीओपी) की 19 वीं बैठक में आयोजित की जा रही है। 14 नवंबर से 25 नवंबर तक चलने वाले इस सम्मेलन में ताजे पानी के कछुए बतागुर कचुगा के संरक्षण के भारत के प्रस्ताव को सीओपी 19 में कई देशों का समर्थन मिला है। पनामा में चल रहे सम्मेलन में कछुए और कछुओं के प्रति भारत के संरक्षण प्रयासों की सराहना भी की गई।

सीआईटीईएस कोप 19 में भारत ने देश में कछुओं और ताजे पानी के कछुओं के संरक्षण के संबंध में अपनी प्रतिबद्धता दोहराई। केन्द्रीय पर्यावरण मंत्रालय के अनुसार बैठक में सदस्य देशों को कछुओं और मीठे पानी के कछुओं की कई प्रजातियां जिन्हें गंभीर रूप से लुप्तप्राय, लुप्तप्राय, कमजोर या निकट संकटग्रस्त के रूप में पहचाना जाता है, उन्हें पहले से ही वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 में शामिल किया गया है और उनके संरक्षण के लिए सख्त कदम उठाए गए हैं।

उल्लेखनीय है कि बतागुर कचुगा कठोर खोल वाला कछुए की प्रजाति है। प्रजनन काल में नर के सिर पर चमकीले लाल रंग की धारियों के कारण इसे रेड क्राउन रूफ़्ड कछुआ भी कहा जाता है। भारत में, यह केवल मध्य प्रदेश में स्थित राष्ट्रीय चंबल नदी घड़ियाल अभयारण्य में पाया जाता है। आई.यू.सी.एन. की लाल सूची में इसे गंभीर रूप से संकटग्रस्त श्रेणी में शामिल किया गया है। ऐतिहासिक रूप से यह कछुआ मध्य नेपाल, पूर्वोत्तर भारत, बांग्लादेश और बर्मा में पाया जाता था।

सीआईटीईएस क्या है।

वन्य जीवों और वनस्पतियों की लुप्तप्राय प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर कन्वेंशन (सीआईटीईएस) एक अंतर्राष्ट्रीय समझौता है जिसका राज्य और क्षेत्रीय आर्थिक एकीकरण संगठन स्वेच्छा से पालन करते हैं। सीआईटीईएस के सभी 184 दलों को सम्मेलन में विचार करने के लिए प्रस्तावों को आगे रखने और सभी निर्णयों पर मतदान करने का अधिकार है। अब तक 52 प्रस्ताव सामने रखे गए हैं जो अंतरराष्ट्रीय व्यापार के नियमों को प्रभावित करेंगे। इनमें शार्क, सरीसृप, दरियाई घोड़ा, सोंगबर्ड्स, गैंडे, 200 पेड़ प्रजातियां, ऑर्किड, हाथी, कछुए शामिल हैं।