पंचनद दीप पर्व की तैयारियां जोरों पर, चंबल परिवार आयोजन समिति ने लिया जायजा

पंचनद दीप पर्व की तैयारियां जोरों पर, चंबल परिवार आयोजन समिति ने लिया जायजा

औरैया, 22 नवम्बर । पांच नदियों यमुना, चंबल, सिंध, पहुंज और क्वारी के पवित्र संगम पंचनद धाम पर प्रतिवर्ष होने वाले महा दीप पर्व के आयोजन की तैयारियों को तेज कर दिया गया है। मंगलवार को चंबल परिवार आयोजन समिति द्वारा संगम तट पर महा दीप पर्व आयोजन की तैयारियों का जायजा लिया गया।

पांच नदियों के संगम पर प्रतिवर्ष होने वाले महा दीप पर्व, जो चंबल परिवार द्वारा आयोजित किया जाता है। आगामी 26 नवंबर को संविधान दिवस के अवसर पर 3:00 बजे दिन से शुरू होने वाले दीप पर्व की तैयारियों को समिति द्वारा संगम तट पर अंतिम रूप दिया जा रहा है। जिसमें चंबल परिवार प्रमुख डॉ. शाह आलम राना ने कहा कि चंबल अंचल में आजादी के महानायक सूबेदार मेजर अमानत अली और उनके क्रांतिकारी साथियों की याद में 151 फीट लंबे तिरंगे से सलामी दी जाएगी।

वहीं चंबल परिवार समन्वयक वीरेंद्र सिंह सेंगर ने बताया कि उनकी शहादत के 165 वर्ष पूरे होने पर आजादी के अमृत काल वर्ष में 165 दीपों से पंचनद धाम के तटों को रोशन किया जाएगा। इसके साथ ही भारतीय संविधान की प्रस्तावना का सामूहिक स्वरपाठ किया जाएगा। इस दौरान तमाम सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

पंचनद तट पर तैयारी की अंतिम रूपरेखा देते हुए महेंद्र कुमार ने कहा कि पंचनद संगम हमारी साझी विरासत की विविधता और एकजुटता की संस्कृति रही है। महिपाल ने भारतीय संविधान से कई संदर्भ का जिक्र करते हुए मानवीय पक्षों पर जोर दिया। इस अवसर पर महंत सुनील वन, लोकगायक सद्दीक अली, मनोहर दास, संतोष, बाबू निषाद आदि ने संबोधित किया।