गोल्ड मेडल विजेता दिव्यांग प्रतिभा को सम्मानित करने क्रीड़ा भारती पहुंची हरिहरपुर

गोल्ड मेडल विजेता दिव्यांग प्रतिभा को सम्मानित करने क्रीड़ा भारती पहुंची हरिहरपुर

बेगूसराय, 27 मार्च । सारी बाधाओं एवं शारीरिक दिव्यांगता के बावजूद तीन गोल्ड मेडल जीतने वाली पैरा एथलीट खिलाड़ी प्रतिभा कुमारी के जज्बे एवं हौसलों को सलाम करने क्रीड़ा भारती बेगूसराय की टीम शनिवार को उनके घर हरिहरपुर पहुंची तथा अंगवस्त्र एवं मां भारती के तैलचित्र से सम्मानित किया। इस अवसर पर क्रीड़ा भारती के जिला मंत्री रणधीर कुमार, सह मंत्री बाबुल कुमार, शिक्षक ज्योति कुमार एवं प्रतिभा के पिता नंदकिशोर मिश्रा मौजूद थे।

इस दौरान पैरा एथलीट खिलाड़ी प्रतिभा कुमारी ने राष्ट्रीय/अंतरराष्ट्रीय खेलों में भाग लेने के तैयारी में आ रही समस्याओं की जानकारी दी। प्रतिभा ने क्रीड़ा भारती का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि जिले में दिव्यांग खिलाड़ियों को आगे बढ़ाने का काम करूंगी, ताकि दिव्यांगता को लोग अभिशाप नहीं मानें। क्रीड़ा भारती के जिला मंत्री सह शारीरिक शिक्षक रणधीर कुमार ने बताया कि क्रीड़ा भारती प्रतिभा कुमारी को प्रशिक्षण में आ रही सभी समस्याओं को दूर करते हुए होली के बाद प्रशिक्षण सामग्री एवं प्रशिक्षित कोच उपलब्ध करवाने का कार्य करेगी ताकि ये अपने उत्कृष्ट प्रदर्शन से राज्य एवं देश का नाम रौशन कर सकें।

रणधीर ने बताया कि प्रतिभा ने अपनी शारीरिक अक्षमता को ही अपनी ताकत बनाते हुए आज पढ़ाई के साथ साथ खेलों में भी उच्च स्तर के प्रदर्शन से जिले को गौरवान्वित करने के साथ अपने सपनों को छूने के लिए एक उड़ान भरी है। प्रतिभा जिले में महिला सशक्तिकरण की जीती जागती मिशाल हैं, जिले एवं राज्य के खिलाड़ियों, बालिकाओं के लिए प्रेरणा हैं। जिन्होंने कठिन परिस्थितियों में भी हार नहीं मानते हुए आगे बढ़कर सफलता प्राप्त करने का साहस दिखाया है। क्रीड़ा भारती परिवार हर संभव सहयोग के साथ खड़ी होगी ताकि ये अपने मंजिल को पा सकें।

शिक्षक ज्योति कुमार ने कहा कि आज प्रतिभा ने अपने साहस के बल पर यह साबित कर दिया है कि मंजिले उनको मिलती है जिनके सपनों में जान होती है, पंखों से कुछ नहीं होता हौसलों से ही उड़ान होती है। प्रतिभा के पिता नंदकिशोर मिश्रा ने कहा कि कुछ दिनों के अभ्यास से ही प्रतिभा ने राज्य में टॉप प्रदर्शन किया है। तीनों इवेंट में प्रदर्शन राष्ट्रीय स्तर का है, जिसके कारण राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए चयन किया गया है। प्रशिक्षण में सहयोग एवं मार्गदर्शन मिले तो यह राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में नाम रौशन कर सकती है।