शपथ ग्रहण समारोह में दिखी बिहार की राजनीति के कई रंग

पाग पहनकर पहुंचे आलोक रंजन, संजय झा ने ली मैथिली में शपथ

राजपूताना पगड़ी में नज़र आए सुशांत सिंह राजपूत के भाई नीरज सिंह बबलू

पटना, 09 फरवरी । नीतीश सरकार के पहले मंत्रिमंडल विस्तार में राजनीति के कई रंग देखने को मिले। एक तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने पहले ही मंत्रियों की सूची बनाने में युवा और अनुभवी के साथ-साथ जातीय समीकरणों का भी ध्यान रखा। जबकि दूसरे शपथ ग्रहण समारोह में नए मंत्रियों ने भी इस विविधता को बनाए रखा। यह विविधता उनकी भाषा से लेकर भेष-भूषा तक में नज़र आई। किसी ने उर्दू, किसी ने मैथिली में शपथ ली तो कोई पाग-दुपट्टा पहनकर शपथ लेने पहुंचा। वहीं, कोई राजपूताना पगड़ी में भी नज़र आया।

सबसे पहले भाजपा के शाहनवाज हुसैन ने उर्दू में शपथ ली। शाहनवाज, केंद्र की राजनीति में लम्बे समय तक भाजपा का मुस्लिम चेहरा रहे हैं। भाजपा ने हाल में सम्पन्न हुए चुनाव के बाद उप मुख्यमंत्री रहे सुशील मोदी राज्य से केंद्र की राजनीति में भेजा तो शाहनवाज को एमएलसी बनाकर दिल्ली से बिहार की राजनीति में उतार दिया। पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा-जदयू गठबंधन से कोई मुस्लिम प्रत्याशी जीतकर नहीं आया लेकिन सरकार में शाहनवाज भाजपा की ओर से बड़ा मुस्लिम चेहरा होंगे तो जदयू की ओर से भी जमां खान के रूप में यही प्रयास किया गया है। जमां खान बसपा के टिकट पर जीतने वाले एकमात्र विधायक हैं जो हाल ही में जदयू में शामिल हो गए। शाहनवाज ने पिछले दिनों एमएलसी पद की शपथ भी उर्दू में ली थी। मंगलवार को उन्होंने उर्दू में ही मंत्री पद की भी शपथ ली।

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के चचेरे भाई और भाजपा विधायक नीरज सिंह बबलू ने राजपूताना पगड़ी बांधकर मंत्री पद की शपथ ली। नीरज के जरिए भाजपा ने राजपूतों को साधने की कोशिश की है। नीरज ही वो शख्स हैं जिन्होंने पिछले साल सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद कहा था कि यह आत्महत्या नहीं हत्या है। उन्होंने जस्टिस फॉर एसएसआर की मुहिम भी शुरू की थी। नीरज, सुशांत की मौत के बाद लगातार हर मौके पर उनके परिवार के साथ नज़र आए। नीरज बिहार विधानसभा में लगातार चार बार से जीतकर पहुंचे हैं। उन्होंने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत 2005 में की थी। तब वह राघोपुर से चुनाव जीतकर विधानसभा में पहुंचे थे। उसके बाद वर्ष 2010, 2015 और 2020 में वह छातापुर विधानसभा क्षेत्र से लड़े और जीते। सहरसा से भाजपा के विधायक आलोक रंजन ने मिथिलांचल का पाग पहनकर मैथिली में मंत्री पद की शपथ ली। जदयू के एमएलसी संजय कुमार झा ने मैथिली भाषा में मंत्रिपद की शपथ ली।