जहांगीरपुरी एसएचओ पर गिरी गाज, हिंसा मामले के बाद हटाए गए

जहांगीरपुरी एसएचओ पर गिरी गाज, हिंसा मामले के बाद हटाए गए

नई दिल्ली। दिल्ली के जहांगीरपुरी इलाके में हुई हिंसा के बाद एसएचओ राजेश कुमार पर गाज गिरी है। उन्हें एसएचओ के पद से हटाकर अगली तैनाती तक के लिए जिले से अटैच कर दिया गया है। उनकी जगह नए एसएचओ अरुण कुमार लेंगे। माना जा रहा है कि जहांगीरपुरी में जिस तरह से दो समुदायों के बीच बवाल मचा था और दिल्ली पुलिस की जमकर किरकिरी हुई थी, उस कारण ही एसएचओ पर गाज गिरी है।

हालांकि पुलिस मुख्यालय का कहना है कि एसएचओ का तबादला एक रूटीन प्रक्रिया का हिस्सा है। वहीं सूत्रों की मानें तो एसएचओ को थाना से हटाने के लिए पहले ही जिले की तरफ से मुख्यालय से सिफारिश की गई थी। इसमें यह कहा गया था कि एसएचओ को यहां से हटाया जाए। बहरहाल राजेश कुमार जिले में ही तैनात रहेंगे। माना जा रहा है कि जबतक उनकी कहीं तैनाती नहीं कर दी जाती है, तब तक वे जिले में काम करेंगे।

अब तक हुई कार्रवाई

जहांगीरपुरी हिंसा मामले को लेकर स्थानीय पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच आरंभ की, लेकिन बाद में जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई। स्थानीय पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम अबतक इस मामले में 33 आरोपितों को गिरफ्तार कर चुकी है, जबकि तीन नाबालिग आरोपितों को भी दबोच चुकी है। जांच में जुटी क्राइम ब्रांच की टीम अभी कई और संदिग्ध आरोपितों की तलाश में छापेमारी कर रही है।

क्या है पूरा मामला

राजधानी के जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती की शोभायात्रा पर पथराव हुआ था और आगजनी की घटनाएं हुईं थीं। भारी हंगामा हुआ था। कुशल सिनेमा के पास उपद्रवियों ने कई गाड़ियों को नुकसान पहुंचाया था और कई गाड़ियों के शीशे तोड़ दिए थे। कई गाड़ियों को आग के हवाले भी कर दिया गया था। हिंसा व आगजनी की इस घटना में आठ पुलिसकर्मी और एक आम नागरिक समेत कुल नौ लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे। सभी घायलों को बाबू जगजीवनराम अस्पताल में भर्ती कराया गया था।