ब्रिगेडियर राजीव लोय ने किया जैसलमेर स्थित तोपखाना रेजीमेंट का निरीक्षण

ब्रिगेडियर राजीव लोय ने किया जैसलमेर स्थित तोपखाना रेजीमेंट का निरीक्षण

जैसलमेर, 22 जनवरी। अपने दो दिवसीय प्रवास के दौरान तोपखाना के कमांडर ब्रिगेडियर राजीव लोय ने सीमा सुरक्षा बल की जैसलमेर में स्थित तोपखाना रेजीमेन्ट का निरीक्षण किया।

इस वर्ष तोपखाना रेजीमेन्ट का गोल्डन जुबली वर्ष मनाया जा रहा हैं इसी संबंध में तैयारियों के साथ व रेजीमेन्ट की क्षमता व दक्षता का निरीक्षण ब्रिगेडियर लोय ने किया। दरअसल भारत के सभी केन्द्रीय सशस्त्र बलों में बी.एफ.एफ. एक मात्र वह बल है जो अत्याधुनिक तोपों की विभिन्न रेजीमेंटों से सुसज्जित है। बी.एस.एफ. तोपखाने की रेजीमेंटें भारत-पाक युद्ध के मध्य एक अक्टूबर 1971 को अस्तित्व में आयी थी। गठन के उपरांत पाकिस्तान के साथ सटी सीमाओं की सुरक्षा तो अधिक अभेद्य हुई है साथ ही साथ 1971 के भारत पाक युद्ध में भी बी.एस.एफ. तोपखाने ने भारतीय सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर अपनी दक्षता और शौर्य का परिचय दिया था। इन्हीं रेजीमेंटों से एक जैसलमेर में तैनात रेजीमेंट का दौरा एवं निरीक्षण तोपखाना के कमांडर ब्रिगेडियर राजीव लोय ने किया। रेजीमेंट के कमान अधिकारी सत्येन्द्र सिंह पवार ने इस वर्ष मनायी जाने वाले गोल्डन जुबली समारोह की तैयारीयों एवं रेजीमेंट की क्षमता एवं दक्षता का उल्लेख किया। बी.एस.एफ. तोपखाना कमांडर ने सैनिक सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए अधिकारियों, अधीनस्थ अधिकारियों एवं गनर जवानों की निपुणता एवं उनके मनोबल की भूरि- भूरि प्रशंसा की ।