उदयपुर: लोक कला मण्डल में लोकानुरंजन मेला 22 फरवरी से

उदयपुर: लोक कला मण्डल में लोकानुरंजन मेला 22 फरवरी से

उदयपुर, 07 फरवरी । लोक कलाओं की अन्तरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त संस्था भारतीय लोक कला मण्डल, उदयपुर के 70वें स्थापना दिवस समारोह के अवसर पर परम्परा के तहत होने वाले लोकानुरंजन मेला, 17वां पद्मश्री देवीलाल सामर स्मृति राष्ट्रीय नाट्य समारोह एवं शिल्प मेले की तैयारियां शुरू हो गई हैं।

भारतीय लोक कला मण्डल के निदेशक डाॅ. लईक हुसैन ने बताया कि भारतीय लोक कला मण्डल, उदयपुर की स्थापना वर्ष 1952 में स्व. पद्मश्री देवीलाल सामर द्वारा की गई। संस्था का 70वां स्थापना दिवस समारोह इस वर्ष बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाएगा। स्थापना दिवस समारोह के आयोजनों में 22 फरवरी से 24 फरवरी तक लोकानुरंजन मेले का आयोजन होगा जिसमें राजस्थान, पश्चिम बंगाल, पंजाब, तेलंगाना, आन्ध्र प्रदेश, केरल, कर्नाटक आदि राज्यों के लोक कलाकार प्रस्तुतियां देंगे।

25 फरवरी से 28 फरवरी तक दि परफोरमर्स, उदयपुर के संयुक्त तत्वावधान में 17वें पद्मश्री देवीलाल सामर स्मृति राष्ट्रीय नाट्य समारोह का आयोजन किया जाएगा जिसमें देश के प्रसिद्ध नाट्य निर्देशकों द्वारा निर्देशित नाटकों का मंचन किया जाएगा। कार्यक्रम संस्था के मुक्ताकाशी रंगमंच पर प्रतिदिन शाम 7 बजे से होंगे।

इसके साथ ही संस्था परिसर में 22 फरवरी से 28 फरवरी तक प्रातः 11 बजे से सायं 9 बजे तक शिल्प मेले का आयोजन भी होगा जिसमें राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, मणिपुर के साथ ही देश के अन्य प्रांतों के शिल्पियों द्वारा अपने - अपने शिल्प का प्रदर्शन एवं बिक्री की जाएगी।

भारतीय लोक कला मण्डल के मानद सचिव एस.पी. गौड़ ने बताया कि स्थापना दिवस पर आयोजित होने वाला लोकानुरंजन मेला एवं 17वें पद्मश्री देवीलाल सामर स्मृति राष्ट्रीय नाट्य समारोह तथा शिल्प मेले में प्रवेश निःशुल्क रहेगा।